उत्तरप्रदेशबिग न्यूज़

स्वामी प्रसाद मौर्य ने सपा महासचिव पद से दिया इस्तीफा, अखिलेश यादव के नाम लिखा पत्र

स्वामी प्रसाद मौर्य ने सपा महासचिव पद से इस्तीफा दे दिया है । उन्होंने समाजवादी पार्टी के नेतृत्व में भेदभाव बरतने का आरोप लगाया है । उन्होंने अखिलेश यादव को संबोधित अपना इस्तीफ सोशल मीडिया साइट एक्स पर पोस्ट किया है ।मौर्य लगातार सनातन विरोध बयान दे रहे थे । जिससे समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव को असहजत स्थिति का सामना करना पड़ा था । कई बार सपा नेतृत्व में स्वामी प्रसाद मौर्य के बयानों को मीडिया में निजी बयान बताया था । इसी से आहत होकर स्वामी प्रसाद मौर्य ने पद से इस्तीफा दिया है ।

स्वामी प्रसाद मौर्य ने अखिलेश यादव को भेजे पत्र में लिखा, “सेवा में, प्रिय महोदय…. जबसे मैं समाजवादी पार्टी में सम्मिलित हुआ, लगातार जनाधार बढ़ाने की कोशिश की । सपा में शामिल होने के दिन ही मैंने नारा दिया था “पच्चासीर हमारा है, 15 में भी बंटवारा है” । हमारे महापुरुषों ने भी इसी तरह की लाइन खींची थी। भारतीय संविधान निर्माता बाबा साहब डॉक्टर अंबेडकर ने “बहुजन हिताय बहुजन सुखाय” की बात की तो डॉ. राम मनोहर लोहिया ने कहा कि “सोशलिस्टो ने बांधी गांठ, पिछड़ा पावै सो में साठ”, शहीद जगदेव बाबू कुशवाहा व मा. रामस्वरूप वर्मा जी ने कहा था “सौ में नब्बे शोषित हैं, नब्बे भाग हमारा है”, इसी प्रकार सामाजिक परिवर्तन के महानायक काशीराम साहब का भी वही था नारा “85 बनाम 15 का” ।

किंतु पार्टी द्वारा लगातार इस नारे को निष्प्रभावी करने एवं वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव में सैकड़ों प्रत्याशियों का पर्चा व सिंबल दाखिल होने के बाद अचानक प्रत्याशीयों के बदलने के बावजूद भी पार्टी का जनाधार बढ़ाने में सफल रहे, उसी का परिणाम था कि सपा के पास जहां मात्र 45 विधायक थे वहीं पर विधानसभा चुनाव 2022 के बाद यह संख्या 110 विधायकों की हो गई थी । तद्नतर बिना किसी मांग के आपने मुझे विधान परिषद् में भेजा और ठीक इसके बाद राष्ट्रीय महासचिव बनाया ।इस सम्मान के लिए आपको बहुत-बहुत धन्यवाद ।

सम्बन्धित ख़बरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

You cannot copy content of this page