[metaslider id="38094"]
सोनभद्र

अपडेट : तीन डाक्टरों के पैनल ने किया मृत तेंदुए का पोस्टमार्टम

[metaslider id="38102"]

शान्तनु कुमार

० पोस्टमार्टम के बाद रेंज परिसर में ही किया गया तेंदुए का अंतिम संस्कार

० इस मामले पर वन विभाग के अधिकारी मीडिया के सवालों से बचते रहें

सोनभद्र । शनिवार को म्योरपुर में उस समय हड़कम्प मच गया जब म्योरपुर रेंज के डढ़ियरा के खालेडीह जंगल में एक पेड़ के नीचे संदिग्ध परिस्थितियों में एक तेंदुआ मृत अवस्था में पाया गया। घटना की जानकारी सबसे पहले जंगल में पशुओं को चराने जा रहे ग्रामीणों को हुई। ग्रामीणों ने जब मृत तेंदुए को देखा तो हड़कम्प मच गया। ग्रामीणों ने इसकी सूचना तत्काल वन विभाग को दी। वन विभाग को जैसे ही यह सूचना मिली पूरे महकमे में हड़कंप मच गया।आनन-फानन में वन विभाग की टीम मौके पर पहुंचकर मृत तेंदुए के शव को अपने कब्जे में लेकर रेंज परिसर ले आए जहां आलाधिकारियों के आदेश पर तीन डाक्टरों की पैनल ने पोस्टमार्टम किया। मामला संदिग्ध था इसलिए पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी भी कराई गई। इस दौरान उप प्रभागीय वनाधिकारी म्योरपुर भानेंद्र सिंह तथा उप प्रभागीय वनाधिकारी उषा देवी पिपरी ने घटनास्थल पर पहुंचकर मौका मुआयना किया ।

बताया गया कि तेंदुआ नर था और इसकी उम्र करीब दस वर्ष और वजन 55 किलो था। तेंदुए की मौत कैसे हुई पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही पता चलेगा। लेकिन तेंदुए की मौत ने कई सवाल छोड़ दिये हैं ।

वहीं ग्रामीणों का कहना है कि वन विभाग ने तेंदुए की पुष्टि कभी इस इलाके में नहीं की है और न ही कभी इसकी जानकारी ग्रामीणों को दी है। आशंका जताई जा रही है कि तेंदुए की संदिग्ध परिस्थिति में मौत के पीछे शिकारियों द्वारा जंगली सुअरों के शिकार के लिए लगाए गए जाल में फंसने से हुई होगी।वहीं इस मामले पर वन विभाग के आलाधिकारी मीडिया के सवालों से बचते रहे। उधर पोस्टमार्टम के बाद तेंदुए का रेंज परिसर में ही दाह संस्कार कर दिया गया ।लेकिन जो भी हो तेंदुए की मौत ने पोल खोल दिया है कि क्षेत्र में शिकारियों की चहलकदमी जरूर है।

[metaslider id="38110"]

सम्बन्धित ख़बरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button