सोनभद्र

Sonbhadra News : चेक बाउंस मामले में भाजपा नेता दोषी करार, कोर्ट ने सुनाई एक वर्ष जेल व 2.50 लाख रूपये जुर्माने की सजा

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

मो0नं0 – 7007444590

सोनभद्र । चेक बाउंस मामले में बुधवार को मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सोनभद्र की कोर्ट ने कथित भाजपा नेता धीरेंद्र जायसवाल को कड़ी फटकार लगाते हुए एक साल की सजा व 2.50 लाख का अर्थदंड लगाया है।

दरअसल लगभग 8 वर्ष पूर्व धीरेंद्र जायसवाल ने दिलीप श्रीवास्तव को 1 लाख 65 हजार का एक चेक दिया था लेकिन वह बाउंस हो गया । पहले तो पीड़ित ने अपने स्तर से काफी प्रयास किया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ । उसके बाद पीड़ित ने कोर्ट का सहारा लिया और लम्बे अंतराल के बाद आखिरकार कोर्ट ने धीरेंद्र जायसवाल को दोषी मानते हुए 2 लाख 50 हजार रूपये का अर्थदंड लगाया है। कोर्ट ने अपने आदेश में पीड़ित को 1 लाख 75 हजार देने की बात कही है जबकि शेष सरकार के कोष में जमा करने को कहा है साथ ही कोर्ट ने एक साल का सजा भी सुनाया है साथ ही अर्थदंड नहीं देने पर तीन माह की अतरिक्त सजा भुगतना होगा।

ये भी पढ़ें – Sonbhadra Breaking News : एसपी ने किया तीन चौकी प्रभारियों सहित आधा दर्जन दरोगाओं के कार्यक्षेत्र में फेरबदल

कोर्ट के इस फैसले के बाद पीड़ित के अधिवक्ता टीटू गुप्ता ने बताया कि धीरेंद्र जयसवाल काफी शातिर किस्म का है और कोर्ट को लगातार वर्षों से गुमराह कर रहा था लेकिन उन्हें न्याय पर पूरा भरोसा था और आखिरकार पीड़ित को न्याय मिल गया। उन्होंने बताया कि मिली जानकारी के मुताबिक धीरेंद्र जायसवाल के ऊपर चेक बाउंस के कई मामले पेंडिंग है। उन्होंने कहा कि उनके क्लाइंट को न्याय मिलने के बाद उम्मीद है कि अन्य मामले भी जल्द कोर्ट के सामने आएंगे और उन्हें भी न्याय अवश्य मिलेगा।

आपको बता दें कि कथित भाजपा नेता धीरेंद्र जायसवाल के संबंध कई बड़े भाजपा नेताओं से रहे हैं। कथित भाजपा नेता धीरेंद्र जायसवाल अपनी कमियों को छुपाने के लिए बड़े भाजपा नेताओं के साथ तस्वीर अक्सर सोशल मीडिया पर पोस्ट किया करता था, अब जब कोर्ट की कार्यवाही सामने आई है तो भाजपा नेता धीरेंद्र जायसवाल से कन्नी काटने में लगे हुए हैं।

अब यह देखना दिलचस्प होगा कि कोर्ट की कार्यवाही के बाद पार्टी स्तर पर क्या कार्रवाई होती है।

सम्बन्धित ख़बरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

You cannot copy content of this page