सोनभद्र

Sonbhadra News : वीआईपी कल्चर पर लगाम लगा रही सोनभद्र पुलिस, काली फ़िल्म, लाल-नीली बत्ती और हूटर लगाने वालों पर कसा शिकंजा

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

मो0नं0 – 7007444590

सोनभद्र । लाल-नीली बत्ती का प्रयोग आमतौर पर वीआईपी, प्रशासनिक अधिकारियों व मुख्य रूप से पुलिस द्वारा किया जाता है, लेकिन नियम-कानून को ताक पर रख कुछ दबंगों द्वारा हूटर व नीली-लाल बत्ती का प्रयोग जमकर किया जाने लगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के वीआईपी कल्चर पर लगाम लगाने के आदेश के बाद सोनभद्र पुलिस कार्रवाई में जुट गई है और ऐसे लोगों पर कड़ी नजर है। पुलिस अधीक्षक डॉ0 यशवीर सिंह के निर्देशन में आज एआरटीओ के नेतृत्व में यातायात पुलिस व थाना रॉबर्ट्सगंज पुलिस ने संयुक्त रुप से निजी वाहनों पर हूटर/सायरन/लाल नीली बत्ती/पद सूचक/ब्लैक फिल्म/ विधायक का पास लगाए/उत्तर प्रदेश सरकार व भारत सरकार लिखी गाड़ियों/प्रेसर हॉर्न लगाए गये वाहनों के विरुद्ध नगर के स्वर्ण जयंती चौक पर अभियान चला कर कई चार पहिया वाहनों से हूटर, नीली बत्ती, ब्लैक फिल्म उतरवाया।

पुलिस अधीक्षक डॉ0 यशवीर सिंह ने बताया कि प्रायः देखा जा रहा है कि काले फ़िल्म, लाल-नीली बत्ती, हूटर सायरन के अवैध प्रयोग आदि के कारण सड़कों पर अव्यवस्था का माहौल उत्पन्न हो जाता है, ऐसे में आगे भी यह अभियान जारी रहेगा।

बताते चलें कि मोटरयान अधिनियम के अन्तर्गत की गई आज रॉबर्ट्सगंज कोतवाली पुलिस की कार्रवाई के क्रम में 115 चार पहिया वाहनों की जाँच की गयी जिसमें से 30 चार पहिया वाहनों पर कार्यवाही की गयी है। न्यायालय ने पूर्व में ही मल्टीटोन हॉर्न तथा अन्य सायरन हूटर के अनधिकृत उपयोग पर प्रतिबंध लगाने के निर्देश दिए थे। इसके आधार पर विभाग ने 11 जुलाई, 2006 में जारी अधिसूचना में संशोधन कर नई अधिसूचना जारी की है।

ये कर सकेंगे नीली बत्ती का उपयोग –

अधिसूचना के तहत कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए ड्यूटी के दौरान संभागीय आयुक्त, जिला मजिस्ट्रेट, अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट एवं उपखंड मजिस्ट्रेट नीली बत्ती लगा सकेंगे। ये लोग बत्ती का उपयोग घर से ऑफिस के दौरान नहीं लगा सकेंगे। सिर्फ कानून व्यवस्था के दौरान लग सकेंगे, बाकी समय बत्ती ढकी रहेगी। वहीं गश्ती ड्यूटी, एस्कॉर्ट, पायलेट, आपात स्थिति नियंत्रण या कानून व्यवस्था के लिए पुलिस, आबकारी, परिवहन विभाग और अग्निशमन वाहन नीली बत्ती लगा सकेंगे। बैंगनी रंग के कांच से ढकी लाल बत्ती का उपयोग एम्बुलेंस के लिए कर सकेंगे।

सम्बन्धित ख़बरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button