Friday , September 30 2022

जिला अस्पताल में शर्मसार कर देने वाली घटना, तीन घण्टे मेडिकल के लिए बरामदे में पड़ी रही रेप पीड़िता

शान्तनु कुमार/आनंद चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । हाल ही में सोनभद्र दौरे पर आए डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने जिला अस्पताल का निरीक्षण कर सीएमएस व अन्य डॉक्टरों को नसीहत देते हुए कहा था कि बढ़िया काम करो, किसी को निराश होकर जाने मत देना…

लेकिन सोमवार की रात जिला अस्पताल में जो कुछ हुआ वह न सिर्फ डॉक्टरी पेशे को शर्मसार करने वाली बल्कि सरकार को भी सोचने पर मजबूर कर देने वाली घटना है ।

दरअसल ओबरा थाना क्षेत्र के जंगल में एक 8 साल की लड़की के साथ रेप की घटना घट जाती है । घटना की जानकारी जैसे ही परिजनों ने ओबरा थाने को दी, पुलिस ने तत्काल आरोपी को गिरफ्तार कर लड़की को लेकर मेडिकल कराने जिला अस्पताल पहुंची। पुलिस जिला अस्पताल पहुंचकर इमरजेंसी में डॉक्टरों से संपर्क करती रही लेकिन कोई मदद नहीं मिली । धीरे-धीरे वक्त गुजरता रहा और देखते-देखते 3 घण्टे बीत गए लेकिन लड़की के मेडिकल के लिए कोई डॉक्टर नहीं आया । जिला अस्पताल का मामला होने के वावजूद सीएमएस जिला अस्पताल नहीं पहुंचे और इंस्पेक्टर को मेडिकल के लिए सीएमओ से आदेश कराने को कहा । लड़की की मेडिकल के लिए शुरू किए गए नए परंपरा से सीएमओ भी भड़क गए ।

मामला उलझता देख ओबरा इंस्पेक्टर ने पूरे घटना की जानकारी एसपी को दी, जिसके बाद एसपी ने सीएमओ को फोन करते हुए जिला अस्पताल जा धमके और थोड़ी देर में सीएमओ भी नाइट ड्रेस में ही जिला अस्पताल पहुंच गए ।

जिला अस्पताल पहुंचते ही सीएमओ ने जानकारी मांगी तो सीएमएस की परत दर परत पोल खुलने लगी । रात अस्पताल में कोई महिला डॉक्टर नहीं थी, इमरजेंसी के डॉक्टर भी नदारत थे। पूछने ओर बताया कि उन्हें पता ही नहीं कि किसी लड़की का मेडिकल करना है ।
यानी आप सोच सकते हैं कि जिस 8 साल की रेप पीड़िता को मेडिकल की तत्काल सख्त जरूरत थी, डॉक्टरों की मानवता उसके लिए खत्म हो गयी, बच्ची तीन घण्टे तक बरामदे में पड़ी रही लेकिन उसे किसी ने हाथ तक नहीं लगाया और न पूछा ।

जिला अस्पताल के हालात व व्यवस्था देखकर सीएमओ भी हैरान थे उन्होंने कहा कि यहां सिर्फ मरीजों को भटकाने का काम किया जाता है, रेप पीड़िता की घटना में तो तत्काल इलाज करना चाहिए । सीएमओ ने माना कि जिला अस्पताल में दुर्व्यवस्था व लापरवाही दोनों है, जिसके लिए वे लिखा-पढ़ी करेंगे ।

बहरहाल डॉक्टरों को भगवान का दर्जा दिया गया है लेकिन सोनभद्र जिला अस्पताल में भगवान का यह चेहरा वाकई शर्मसार कर देने वाला है । ऐसे में सरकार को झूठे दावे करने के बजाय कड़े फैसले लेने की जरूरत है । वरना यही भगवान कभी उनके लिए भस्मासुर न बन जाय ।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com