Sunday , October 2 2022

मिर्जापुर में प्रति घंटा 4 सेमी बढ़ रहीं गंगा:गंगा किनारे बसे 493 गांवों को लेती हैं चपेट में, जिला प्रशासन सतर्क

संजीव कुमार पांडेय-संवाददाता
मिर्जापुर।
गंगा का जलस्तर बढ़ने के साथ ही लोगों की चिंता भी बढ़ रहीं हैं। फिलहाल गंगा नदी अभी खतरे के निशान से करीब सात मीटर नीचे हैं। गंगा करीब 4 सेंटीमीटर प्रतिघंटा के हिसाब से बढ़ रही हैं। जिले में गंगा नदी के खतरे का निशान 77.724 मीटर है। शुक्रवार करीब साढ़े 3 बजे जलस्तर 71.20 मीटर दर्ज किया गया। डीएम प्रवीण कुमार लक्षकार ने बढ़ते जल स्तर को देखते हुए स्थापित 37 बाढ़ चौकियों को अलर्ट रहने की हिदायत दी है।

जिले के 493 गांव बाढ़ प्रभावित——-

गंगा नदी में बाढ़ आने के बाद सदर और चुनार तहसील के 493 गांव ज्यादा प्रभावित होते हैं । गंगा किनारे बसे लोगों को बाढ़ की विभीषिका का सामना करना पड़ता है। बाढ़ में फंसे लोगों और पशुओं को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने और चारे की व्यवस्था का जिला प्रशासन को संभालना पड़ता हैं। लोगों की सुरक्षा के लिए जिले में 37 बाढ़ चौकियां स्थापित की गई हैं। लगातार हो रही बारिश और गंगा नदी के बढ़ते जल स्तर को देख लोग गृहस्थी की व्यवस्था में लग गए है।

1978 में आया था बड़का बाढ़—-

जिले में सबसे अधिक गंगा नदी का जल स्तर 9 सितंबर 1978 में 80.34 मीटर दर्ज किया गया था। जिसे आज भी लोग बड़का बाढ़ के नाम से जानते है । पिछले साल 12 अगस्त 2021 को अधिकतम जल स्तर 78.40 मीटर रिकार्ड किया गया था । शुक्रवार को दोपहर में 5 मिली मीटर वर्षा दर्ज किया गया था। आज सुबह से ही आसमान में बादल छाए हुए हैं।

जिलाधिकारी पहुंचें गंगा किनारे—–

गंगा नदी के बढ़ते जल स्तर को जिलाधिकारी ओझला के पास गंगा घाट पर जाकर लगाये गये जल स्तर के लेबल को देखा। ओझला घाट पर गंगा किनारे जल स्तर मापने के लिये माप स्केल लगाया गया हैं। सिचाई विभाग के अवर अभियन्ता चन्द्रमणि ने जिलाधिकारी को वाटर लेबल के चेतावनी और खतरे के निशान के बारे में जानकारी दी। बताया कि वार्निंग लेबल 76.724 मीटर हैं।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com