Friday , September 30 2022

प्रशासनिक अधिकारियों की टीम ने वन भूमि से हटवाया अवैध कब्जा, हिरासत में ली गयी कई महिलाएं

रमेश यादव (संवाददाता)

दुद्धी । पखवारे भर से दुद्धी क्षेत्र के कादल गांव के समीप जंगल में लगे सैकड़ो पेड़ काटकर अखिल भारतीय वन-जन श्रमजीवी यूनियन का आई कार्ड धारण किये लोगों ने दो दर्जन से अधिक झोपडी लगाने के साथ तीन पहाड़ियों के चारो ओर लाल झंडा गाड़कर कब्जा जमा लिया था। इसकी भनक सोमवार को सार्वजनिक होते ही प्रशासनिक खेमे में हड़कंप मच गया।मंगलवार को उपजिलाधिकारी शैलेन्द्र मिश्रा ने आपात बैठक कर वन भूमि खाली कराने का मसौदा तैयार किया। इसके लिए प्रभागीय वनाधिकारी मनमोहन मिश्रा, तहसीलदार बृजेश कुमार वर्मा व कोतवाल राघवेन्द्र सिंह भारी संख्या में पुलिस, पीएसी एवं महिला कास्टेबिल के साथ करीब ढाई किमी0 पैदल यात्रा कर झुमरिया नाला के पहाड़ियों पर पहुंचे।संयुक्त टीम को पहाड़ी की ओर आते देख अतिक्रमणकारी पुरुष मौके से घने जंगल का सहारा लेते हुए ऊंचे पहाड़ियों की ओर भाग निकले। जबकि लाठी डंडे से लैस एकत्र हुई महिलाएं मोर्चा पर डटी रही।

वनकर्मियों की टीम जंगल में गाड़े गये लाल झंडे एवं झोपड़ियों को नष्ट करने में जुट गये, तो वही दूसरी ओर प्रभागीय वनाधिकारी, तहसीलदार एवं कोतवाल अतिक्रमणकारी महिलाओं से वार्ता कर उन्हें कानून व्यवस्था का हवाला देकर समझाने में लगे हुए थे। इस दौरान उसमे शामिल कुछ महिलाओं ने संयुक्त टीम की कारवाई को ही अवैध बताते हुए उन पर गंभीर आरोप लगाने लगी।

बहरहाल प्रशासनिक अधिकारी उनके ऐसे रुख का पहले ही काट रखते हुए पहाड़ी पर चढने के साथ शुरू किये आपरेशन का पूरा वीडियो बनाने में लगे हुए थे। अपने ही बातों में उलझी महिलाओं को प्रशासन ने पहले घर जाने की नसीहत दी, किन्तु वे जब इस पर राजी नहीं हुई तो मौके पर मिली 59 महिलाओं व एक पुरुष अतिक्रमणकारी को हिरासत में लेकर संयुक्त टीम वापस तहसील मुख्यालय लौट आई।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com