Saturday , September 24 2022

आखिर कब तक युवाओं को रोजगार के लिए गंवानी पड़ेगी जान, अजय की मौत के बाद फिर गरमाया बेरोजगारी का मुद्दा

शान्तनु कुमार/आनंद कुमार चौबे

सोनभद्र । गोवा में काम करने गए एक युवक की मौत ने न सिर्फ एक मां-बाप से उसका बेटा छीन लिया बल्कि कई सवाल छोड़ गया। 19 वर्षीय अजय पुत्र लक्ष्मण राबर्ट्सगंज कोतवाली इलाके के देवरी कला का रहने वाला था। घर की आर्थिक स्थिति को देखते हुए अजय मुठेर निवासी लवकुश के साथ कमाने गोवा गया था। लवकुश ने बताया कि उसे गोवा गए अभी एक महीने भी पूरा नहीं हुआ था। उसने बताया कि पांच सौ रुपये प्रतिदिन की हिसाब से उसे वेतन मिलना था। उसने बताया कि शुक्रवार को उसकी संदिग्ध परिस्थिति में आवास पर मौत हो गयी, जिसके बाद कम्पनी ने उसके शव को फ्लाइट से वाराणसी तक भेज दिया,जहाँ से सोनभद्र लाया गया।
अजय की मौत ने एक बार फिर बेरोजगारी को लेकर शासन-प्रशासन के दावे की पोल दी।

सोनभद्र में इतने बड़े-बड़े कलकारखाने होने के बावजूद युवाओं को आज भी कमाने के लिए बाहर जाना पड़ता है और वहां अपनी जान तक गंवानी पड़ रही है। यूँ तो सोनभद्र में चारो विधायक बीजेपी के हैं और सांसद भी सहयोगी दल अपनादल के हैं, बावजूद इसके युवाओं को यहां रोजगार नहीं मिल पा रहा। जनप्रतिनिधि चुनाव के समय भले ही बड़ी-बड़ी बातें व वादे करते हैं लेकिन चुनाव खत्म होते ही सिस्टम पुराने ढर्रे पर चल पड़ता है। अभी हाल ही में दुद्धी विधायक रामदुलार गोंड़ ने विधानसभा में आउट सोर्सिंग कम्पनियों में स्थानीय लोगों को रखे जाने का मुद्दा उठाया था लेकिन कुछ नहीं हुआ।

अब बड़ा सवाल यह है कि आखिर प्रशासन युवाओं को यहां रोजगार क्यों नहीं दे पा रहा है। क्या सोनभद्र में युवाओं के लिए रोजगार नहीं है या फिर कम्पनियां प्रशासन व जनप्रतिनिधियों की नहीं सुन रही। जरूरत है मेहनतकश युवाओं को प्रशिक्षित कर जिले में कहीं नौकरी दिलाने की ताकि युवाओं को न तो बाहर जाकर जान गंवाना पड़ेगा बल्कि घर पर मां-बाप संग रह कर उनकी हर तरीक़े से मदद कर कर सकेगा।

[psac_post_slider show_date="false" show_author="false" show_comments="false" show_category="false" sliderheight="400" limit="5" category="124"]

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com