महाराष्ट्र की उद्धव सरकार खतरे में, मंत्री एकनाथ शिंदे के बगावती तेवर से बढ़ी मुश्किलें, कई विधायक भी एकनाथ के साथ

महाराष्ट्र की उद्धव सरकार खतरे में है। उनके दिग्गज मंत्री एकनाथ शिंदे अपने यानी, शिवसेना के 15, एक एनसीपी और 14 निर्दलीय विधायकों के साथ गुजरात के सूरत जा बसे। इस टोली में शिंदे के अलावा 3 मंत्री और हैं। यानी कुल 30 विधायक।

उद्धव ठाकरे ने इस मसले पर बात करने के लिए आज दोपहर शिवसेना के विधायकों की मीटिंग बुलाई थी, लेकिन इसमें करीब 20 विधायक ही शामिल हुए। ऐसे में उद्धव ठाकरे सरकार को लेकर चिंता बढ़ गई है।

शिवसेना के कुल 55 विधायक हैं और यदि पार्टी से 27 अलग हो जाते हैं तो फिर उन पर दल-बदल का कानून लागू नहीं होगा। ऐसे में उद्धव ठाकरे की मीटिंग से 35 विधायकों का दूर रहना बड़े संकेत दे रहा है। हालांकि शिवसेना अब डैमेज कंट्रोल में जुटी है।

शिवसेना नेता संजय राउत ने महाराष्ट्र में राजनीतिक संकट को लेकर भाजपा पर आरोप लगाया है । उन्होंने कहा कि शिवसेना के कुछ विधायक और एकनाथ शिंदे से फिलहाल संपर्क नहीं हो पा रहा है। महाविकास अघाड़ी की सरकार को गिराने की कोशिश की जा रही है लेकिन बीजेपी को यह याद रखना होगा कि महाराष्ट्र राजस्थान या मध्य प्रदेश से बहुत अलग है ।

कहा कि हमने अभी-अभी एकनाथ शिंदे को विधायक दल के नेता के पद से हटा दिया है । मैंने सुना है कि हमारे विधायक गुजरात राज्य के सूरत में हैं और उन्हें जाने नहीं दिया जा रहा है लेकिन, वे निश्चित रूप से लौटेंगे क्योंकि ये सभी शिवसेना को समर्पित हैं। मुझे विश्वास है कि हमारे सभी विधायक लौट आएंगे और सब ठीक हो जाएगा ।

इसी बीच महाराष्ट्र सरकार में मंत्री एकनाथ शिंदे की पहली प्रतिक्रिया भी सामने आई । उन्होंने कहा कि हम बालासाहेब ठाकरे के पक्के शिवसैनिक हैं । बालासाहेब ने हमें हिंदुत्व सिखाया है । बालासाहेब के विचारों और धर्मवीर आनंद दीघे साहब की शिक्षाओं के बारे में सत्ता के लिए हमने कभी धोखा नहीं दिया और ना कभी धोखा देंगे।

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
[ngg src="galleries" ids="1" display="basic_slideshow" thumbnail_crop="0"]
Back to top button