Monday , September 26 2022

राशन कार्डधारकों के लिए खड़ा हो सकता है रोटी का संकट, जानें क्या है कारण

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । मुफ्त में राशन कार्ड पर प्रति माह दो बार मिलने वाला गेहूं चार माह यानी जून से सितंबर तक नहीं मिलेगा। इसके बदले चावल वितरण किया जाएगा। यहीं नहीं नियमित रूप से वितरण होने वाले गेंहू व चावल की मात्रा में भी परिवर्तन किया गया है। अब प्रति अंत्योदय कार्ड पर एक किलो गेंहू की कटौती कर उसके स्थान पर चावल दिया जाएगा और पात्र गृहस्थी के कार्ड पर प्रति यूनिट पर भी गेंहूँ की मात्रा में एक किलो की कटौती कर इसकी भरपाई चावल से की जाएगी। माना जा रहा है कि इस बार गेहूं क्रय कम होते देख सरकार ने यह निर्णय लिया है। ऐसे में गरीबों को रोटी का संकट खड़ा होना तय है। यहीं नहीं कार्डधारकों को मई माह का रिफाइंड, चना और नमक भी नहीं मिलेगा।

बताते चलें कि जिले में कुल 4 लाख से अधिक राशन कार्ड हैं। जिसमें 341032 पात्र गृहस्थी तथा 60558 अन्त्योदय कार्ड हैं। जिले में कुल 688 सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानें हैं। अभी तक पीएमजेकेवाई के तहत कार्डधारकों को प्रति यूनिट 3 किलो गेहूं व 2 किलो चावल मिलता रहा है, लेकिन अब इस योजना में बदलाव कर दिया गया है। अब कार्डधारकों को प्रति यूनिट 5 किलो चावल मिलेगा। मई माह के राशन का वितरण 19 जून से शुरू होकर 30 जून तक चलेगा। मई माह के रिफाइंड, चना एवं नमक की आपूर्ति अभी तक नहीं मिल सकी है। जिससे इन वस्तुओं का वितरण राशन के साथ नहीं किया जाएगा। इसके लिए इंतजार करना होगा। वहीं नियमित रूप से राशन वितरण में भी बदलाव किया गया है। अब प्रति अंत्योदय कार्ड पर 15 Kg गेंहू और 20 kg चावल के स्थान पर 14kg गेंहू और 21 kg चावल तथा पात्र गृहस्थी के कार्ड पर प्रति यूनिट 3 kg गेंहू और 2 kg चावल के स्थान पर 2kg गेंहू और 3 kg चावल का वितरण किया जाएगा।

जनपद न्यूज़ live से हुई खास बातचीत में सहायक जिला पूर्ति अधिकारी रिपुसूदन आर्या ने बताया कि “जून माह से नियमित राशन वितरण में पात्र गृहस्थी और अंत्योदय कार्डधारकों को एक किलो गेंहूँ कम मिलेगा और इसके स्थान पर एक किलो चावल दिया जाएगा जबकि पीएमजेकेवाई योजना में भी बदलाव किया गया है। अब कार्डधारकों को गेहूँ के वितरण नहीं किया जाएगा बल्कि पांच किलो चावल प्रति यूनिट का वितरण किया जाएगा। रिफाइंड चना, तेल एवं नमक की आपूर्ति मिलने पर इनका वितरण होगा।”

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com