Sunday , October 2 2022

धोखे से समूह के खाते से निकाल लिया 95 हजार रुपये, खाता संचालक महिलाएं परेशान

रमेश यादव (संवाददाता)

दुद्धी । महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए सरकार द्वारा राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत महिलाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए चलाई जा रही योजना एनआरएलएम की शिकायतें थमने का नाम नही ले रही हैं।अभी पिछले महीने बभनी में महिलाओं ने आरोप लगाया था कि आज शनिवार को दर्जन भर समूह की महिलाओं ने दुद्धी तहसील दिवस पहुचकर धोखे से 95 हजार रुपये निकालने का आरोप लगाया है।समूह की महिलाओं का आरोप है कि समूह सखी ने वेतन के नाम पर धोखे से हस्ताक्षर करवा कर समूह के खाते से निकलवा लिया।इसका खुलासा तब हुआ जब बैंक जाकर समूह की महिलाओं ने पासबुक प्रिंट करवाई।जब से समूह की महिलाओं को 95 हजार रुपये निकाले जाने की जानकारी हुई तब से समूह के अध्यक्ष, कोषाध्यक्ष तथा सचिव सहित समूह की अन्य महिलाएं न्याय के लिए दर दर भटक रही हैं।उसी क्रम में शनिवार को दुद्धी तहसील दिवस में आकर न्याय की गुहार लगाई।
इस दौरान निलम, राजकुमारी, दशमती सहित दर्जन भर समूह की महिलाएं मौजूद रहीं।

धोखे से निकाले गए पैसे वापस कराने में एनआरएलएम के अधिकारी भी नहीं कर रहे सहयोग

शनिवार को म्योरपुर ब्लॉक के राजा सरई गांव की समूह की महिलाएं तहसील समाधान दिवस पर अपनी दुखड़ा सुनाते हुए बताई कि समहू सखी के द्वारा धोखे से निकाले गए पैसे को वापस कराने में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के अधिकारी भी सहयोग नही कर रहे हैं जिससे महिलाओं को डर है कि निकाले गए 95 हजार रुपये हमलोगों को घर द्वार बेचकर न भरना पड़ जाए,इसलिए महिलाएं अधिकारियों का चक्कर काट रहे हैं।

पहले भी लग चुके हैं अनियमितता के आरोप

राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन से जुड़े समूहों में पहले भी सरकारी धन के हेराफेरी करने के आरोप लग चुके हैं लेकिन जिम्मेदार अधिकारी जांच के नाम मामले को रफादफा कर देते है।अभी कुछ दिन पहले भी बभनी ब्लॉक में महिलाओं ने प्रदर्शन करते हुए पैसों की गबन का आरोप लगाया था तो पिछले साल दुद्धी में महिलाओं ने मनमानी और पैसों की बंदरबांट का आरोप लगा कर तालाबंदी किया था, तब मामला विधायक तक पहुचा था और जांच में भी गड़बड़ी की बाते आयी थी लेकिन सिर्फ बीएमएम को हटाकर मामले को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com