Friday , September 30 2022

लंदन रहने वाली प्रियंका के नाम से कर रही थी सरकारी नौकरी, बर्खास्तगी के बाद अब होगी 39 लाख की वसूली

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

मिर्जापुर। जिले में फर्जी तरीके से सरकारी नौकरी करने वाली प्रियंका यादव को बर्खास्त कर दिया गया है। संयुक्त शिक्षा निदेशक के आदेश पर यह कार्रवाई की गई। बता दें, ब्रिटेन की राजधानी लंदन में रहने वाली प्रियंका प्रजापति के नाम पर आरोपी युवती मिर्जापुर में टीचर बनी हुई थी। साथ ही 6 साल की नौकरी में वह करीब 39 लाख रुपए वेतन भी ले चुकी थी। संयुक्त शिक्षा निदेशक ने वेतन रिकवरी के आदेश भी दिए हैं। 2019 से लंदन में रहती हैं प्रियंका प्रजापति- दरअसल, कन्नौज जिले के रहने वाले मनोज कुमार प्रजापति की बेटी प्रियंका प्रजापति साल 2019 से लंदन में पति अश्विनी कुमार के साथ रहती हैं। पता चला कि प्रियंका प्रजापति के अकेडमिक रिकॉर्ड्स को हूबहू कॉपी कर कन्नौज की ही प्रियंका यादव (अजमेर सिंह यादव की बेटी) ने उर्दू सहायक अध्यापक की नौकरी हासिल की थी। 2015 में प्रियंका यादव ने हासिल की नौकरी- अधिकारियों के मुताबिक, एलटी भर्ती 2014 में सहायक अध्यापक उर्दू के लिए भर्तियां निकली थीं, जिसमें प्रियंका यादव ने आवेदन किया था। 28 अगस्त 2015 में उसकी नियुक्ति हुई और उसे मिर्जापुर के पहाड़ी ब्लॉक स्थित राजकीय बालिका हाईस्कूल भरपुरा में नियुक्त किया गया। मगर, इस बीच एक गुमनाम पत्र से अधिकारियों को पता चला कि प्रियंका जिस डिग्री पर यह नौकरी कर रही है, वह तो किसी दूसरी प्रियंका की है। प्रियंका प्रजापति के पिता ने दिया शपथ पत्र- संयुक्त शिक्षा निदेशक विंध्याचल मंडल कामता राम पाल ने इस मामले की जांच करवाई। स्कूल से मूल प्रमाण पत्र मंगवाया गया। पता चला कि जिसकी डिग्री पर प्रियंका यादव नौकरी कर रही थी, वह प्रियंका प्रजापति तो इन दिनों लंदन में रह रही है। प्रियंका के पिता मनोज प्रजापति ने 22 फरवरी 2022 को शपथ पत्र देते हुए स्वीकारा कि उनकी बेटी प्रियंका प्रजापति के रिकॉर्ड लंदन में हैं। उसके नाम पर फर्जी रिकॉर्ड बनाकर दूसरी लड़की यानी प्रियंका यादव नौकरी कर रही है। 38 लाख 99 हजार वेतन मिल चुका- इस मामले में जिला विद्यालय निरीक्षक की तहरीर पर 16 अप्रैल 2022 को पड़री थाने में मुकदमा दर्ज कर लिया गया था। FIR में जिक्र किया गया है कि आरोपी प्रियंका यादव अपनी नियुक्ति से लेकर अगस्त 2021 तक 38 लाख 99 हजार से अधिक वेतन उठा चुकी है।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com