Monday , October 3 2022

‘पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रेन स्कीम’ में चयनित बच्चों की मदद करेगा संवाद हेल्पलाइन

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । कलेक्ट्रेट सभागार में पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रेन स्कीम के अन्तर्गत आयोजित कार्यक्रम में जिले में चयनित दो बच्चों को किट का वितरण किया गया। 29 मई 2021 को प्रधानमंत्री ने इस योजना को प्रारम्भ किया था। जिसमें कोरोना की पहली से तीसरी लहर यानी एक मार्च 2020 से 28 फरवरी 2022 के बीच कोविड-19 महामारी में अपने माता-पिता दोनों व अपने वैद्य संरक्षक को खोने वाले बच्चों को सहयोग प्रदान की गयी है। आज प्रधानमंत्री ने बच्चों की सहायता के लिए संचालित पीएम केयर्स केयर फंड की वर्षगांठ के अवसर पर वीडियो कान्फ्रेन्सिंग के माध्यम से देश भर के बच्चों को सम्बोधित करते हुए कहा कि आज वह प्रधानमंत्री नहीं बल्कि आपके परिवार के सदस्य के रूप में आपसे बात कर रहे हैं। बीते दो वर्षों में कोरोना की विभीषिका में दुनिया भर में लोगों ने अपने प्रियजनों को खोया है। इस महामारी में अपने अभिभावक को खो देने की आपकी पीड़ा को शब्दों में व्यक्त नही किया जा सकता। पीएम ने बताया कि संवाद हेल्पलाइन के जरिए भी बच्चों को मदद और उनके सर्वांगीण विकास के लिए समुचित सलाह दी जाएगी। अभिभावक की मौजूदगी बच्चे के लिए हमेशा एक संबल की तरह होती है। आपके अभिभावक ने अब तक आपको हर सही-गलत, अच्छे-बुरे का भेद बताया, आपका मार्गदर्शन किया। आज जब वो आपके साथ नहीं हैं तो आपके जीवन में आए इस खालीपन को भर पाना तो किसी के लिए भी सम्भव नहीं है, लेकिन आपके परिजन के तौर पर उन्होंने यह विश्वास दिलाया कि आप अपने संघर्षों में, अपनी कठिनाईयों में, अपने दुःख-सुःख में अकेले नहीं हैं। पूरा देश आपके साथ है। प्रधानमंत्री ने सभी बच्चों को उनके कुशल-मंगल और उज्ज्वल भविष्य की अनन्त शुभकामनाएं दीं।

जिला विकास अधिकारी रामबाबू त्रिपाठी ने पीएम केयर्स फॉर चिल्ड्रेन स्कीम के अन्तर्गत आयोजित कार्यक्रम में जिले के चयनित दो बच्चों को ऑनलाइन उनके खाते में 20-20 हजार रुपये, हेल्थ कार्ड, बैंक पासबुक, स्नेह पत्र आदि प्रदान करते हुए कहा कि इस योजना का मुख्य उद्देश्य बच्चों की व्यापक देखभाल और सुरक्षा को निरन्तर तरीके से सुरक्षित करना और स्वास्थ्य बीमा के माध्यम से उनको सक्षम व स्वस्थ बनाना, शिक्षा के माध्यम से उन्हें सशक्त बनाना और 23 वर्ष की आयु तक आत्म-समर्थन के साथ आत्मनिर्भर अस्तित्व के माध्यम से परिपूर्ण करना है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में इन बच्चों ने अपने माता पिता को खोया है उसकी भरपाई नही की जा सकती उन्होंने बच्चे के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुये शिक्षा पर विशेष ध्यान देने के लिए प्रेरित किया।

इस दौरान में जिला प्रोबेशन अधिकारी पुनीत टण्डन, बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष अखिल नारायण देव पांडेय, सदस्य अमित सिंह चंदेल, किशोर न्याय बोर्ड के सदस्य ओम प्रकाश त्रिपाठी, शीला सिंह, जिला समन्वयक साधना मिश्रा, जिला बाल संरक्षण इकाई से सामाजिक कार्यकर्ता रोमी पाठक, ओआरडब्ल्यू शेषमणि दुबे आदि मौजूद रहे।

previous arrow
next arrow

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com