Thursday , October 6 2022

रिश्वत की माँग करना डॉक्टर को पड़ा भारी, सीएमएस ने एक दिन का रोका वेतन, ड्यूटी से भी हटाया

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । योगी सरकार लगातार स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को बेहतर करने में जुटी हुई है और भरे मंच से इस बात का ऐलान भी खूब करती नजर आती है। वहीं प्रदेश में बेहतर स्वास्थ्य व्यवस्थाओं का दावा करने वाली योगी सरकार भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ती जा रही है। उप मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री द्वारा लगातार किए जा रहे औचक निरीक्षण के बावजूद डॉक्टर व स्वास्थ्य अधिकारी बेखौफ होकर सरकार की योजनाओं और सुविधाओं पर सट्टा लगाते नजर आ रहे हैं।

ताजा मामला सोनभद्र के एकमात्र जिला अस्पताल का है। आज मारपीट के मामले में घायल दो व्यक्तियों का मेडिकल बनाने के नाम पर इमरजेंसी में तैनात डॉ0 प्रदीप सिंह द्वारा 10 हजार रुपये सुविधा शुल्क की मांग को लेकर डॉक्टर और मरीज के तीमारदारों में जमकर वाद-विवाद हुआ। हालांकि मरीज के तीमारदारों की लिखित शिकायत के बाद सीएमएस ने सख्त रुख अपनाते हुए डॉक्टर को इमरजेंसी ड्यूटी से हटाते हुए एक दिन का वेतन अवरुद्ध करने का आदेश दे दिया।

मरीज के तीमारदार ने बताया कि “वह घोरावल थाना क्षेत्र के ढोलो गांव के निवासी है और आपसी मारपीट के मामले में मंगलवार को दो व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गए थे। मंगलवार की ही देर शाम को दोनों मरीज चंद्रनारायण पांडेय और हृदयनारायण पांडेय जिला अस्पताल आये थे। मरीज के परिजन उनका मेडिकल बनाने और रेफर करने की इमरजेंसी में मौजूद डॉक्टर से मांग कर रहे थे। मरीज के तीमारदार का कहना था कि इस बात के लिए उनसे रुपयों की मांग की जा रही थी। जब मरीज ने पैसे देने से मना कर दिया तो डॉक्टर ने अपशब्दों का प्रयोग करते हुए मरीज के उन लोगों को भगा दिया।”

जिसके बाद मरीज के परिजनों ने सीएमएस डॉ0 के0 कुमार से मुलाकात कर पूरे प्रकरण से अवगत कराया। सीएमएस ने तत्काल कार्यवाही करते हुए इमरजेंसी ड्यूटी से डॉ0 प्रदीप सिंह को हटा दिया और उनका एक दिन का वेतन भी रोक दिया। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक ने जांच के बाद उचित कार्रवाई करने का भी आश्वासन दिया है।

previous arrow
next arrow

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com