Friday , October 7 2022

एनएसएस सप्त दिवसीय शिविर के तीसरे दिन “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” की निकाली जन जागरूकता रैली

कृपाशंकर (पांडेयसंवाददाता)

ओबरा। नगर के राजकीय स्नाकोत्तर महाविद्यालय ओबरा में राष्ट्रीय सेवा योजना के सप्त दिवसीय शिविर के तीसरे दिन शिविरार्थी प्रातःकाल नित्य क्रिया आदि से निवृत्त होकर शिविर के प्रांगण को स्वच्छ किया ,तत्पश्चात प्रार्थना, व्यायाम, नास्ता के बाद शिविर स्थल प्राथमिक विद्यालय,खैरटिया, ओबरा,सोनभद्र से तीनों इकाइयों के शिविरार्थी समूह में “बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ” से सम्बन्धित नारे जैसे-“बेटी है अनमोल उपहार,शिक्षा है उसका अधिकार”कमजोरी बेटी में नहीं ,हमारे मन में है,तुलना करके देखो,बेटी नम्बर वन में है “बेटी भार नहीं,है आधार जीवन है उसका अधिकार,इत्यादि नारे लगाते हुए चयनित ग्राम खैरटिया पहुँचे और वहाँ पहुँचकर ग्रामीण वासियों को शिविरार्थीयों ने उन्हें बेटा -बेटी एक समान हैं के बारे में बताया।

शिविरार्थियों ने नुक्कड़,नाटक के माध्यम से बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ,का मंचन भी किया।तत्पश्चात वापस शिविर में आकर शिविरार्थी ने पंक्ति बद्ध होकर शांतिपूर्वक भोजन किया। फिर बौद्धिक गोष्ठी का आयोज हुआ। बौद्धिक गोष्ठी के मुख्य वक्ता महाविद्यालय के हिंदी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ रंजीत सिंह ने ” स्वामी विवेकानंद और युवा ” विषय पर बहुत ही सरल शब्दों में विस्तार से शिविरार्थियों को बताया ,आपने बताया कि विवेकानंद जी कहते हैं कि आध्यात्मिक ज्ञान जीवन मे बहुत जरूरी है।आध्यात्मिक ज्ञान गुरु से ही मिलता है।आपने बताया कि धन गया ,गया नहीं कुछ ,स्वास्थ्य गया कुछ जाता है,सदाचार जो गया मनुष्य का ,सब कुछ लुट जाता है।कार्यक्रम अधिकारी डॉ अमूल्य कुमार सिंह ने मंच का संचालन किया।कार्यक्रम अधिकारी डॉ महीप कुमार ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

previous arrow
next arrow

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com