Sunday , October 2 2022

401-विधानसभा रॉबर्ट्सगंज- दिग्गजों के बीच होगा कांटे का मुकाबला

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । नामांकन वापसी के बाद अब 401-रॉबर्ट्सगंज विधानसभा की तस्वीर साफ हो गयी है। तीन प्रत्यशियों के नाम वापसी के बाद अब 10 दावेदार चुनावी मैदान में ताल ठोंक रहे हैं। वहीं रॉबर्ट्सगंज विधानसभा की तस्वीर साफ होने के बाद प्रमुख दलों से दावेदारी कर रहे दिग्गज नेताओं की सियासत दांव पर है जो कुर्सी पाने के लिए मतदाताओं के चौखट पर पहुंच रहे हैं।

दावेदारों की बात करें तो सपा से पूर्व विधायक अविनाश कुशवाहा और भाजपा से निवर्तमान विधायक भूपेश चौबे चुनावी मैदान में हैं। तो वहीं बसपा के अविनाश शुक्ला भी कड़ी टक्कर देते नजर आ रहे हैं जबकि कांग्रेस स्थानीय व ब्राह्मण चेहरा कमलेश ओझा के सहारे अपनी राजनीतिक जमीन तलाशने में जुटी हुई है।

बताते चलें कि जिले में आखिरी चरण में यानी 7 मार्च को मतदान होने हैं। मतदान की तारीख अब नजदीक है, इसको देखते हुए प्रत्याशी दौड़ लगानी तेज कर दिए हैं। लेकिन यह तो अब दस मार्च को ही पता चलेगा कि कौन राजनीतिक जमीन को बचाने में सफल होगा और ज़िले में अपनी सियासत की चटक रंग को कायम रखने में कामयाब हो पाता है।

रॉबर्ट्सगंज विधानसभा की सियासत की जंग पर नजर डाली जाए तो 2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के भूपेश चौबे ने निवर्तमान विधायक सपा के अविनाश कुशवाहा को लगभग 41000 वोटों से हराया था। जबकि पिछले 4 विधानसभा चुनावों की बात करें तो इस सीट पर 2 बार सपा, 1 बार बसपा, और एक बार बीजेपी ने जीत दर्ज किया है। 2012 में इस विधानसभा सीट पर सपा के अविनाश सिंह कुशवाहा ने बीएसपी के रमेश सिंह को हराकर जीत दर्ज की थी।

राबर्ट्सगंज विधानसभा सीट पर मतदाताओं की संख्या 3.43 लाख है। जातीय समीकरण देखें तो इस सीट पर ब्राह्मणों और दलितों का दबदबा है। आंकड़ों के अनुसार, सबसे ज्यादा लगभग 45 हजार ब्राह्मण मतदाता, 40 हजार दलित, 28 हजार वैश्य, 18 हजार मुस्लिम, 12 हजार यादव, 20 हजार कुर्मी, 14 हजार धांगर, 12 हजार क्षत्रिय, 12 हजार कन्नौजिया, 5300 चेरो-बिन्द, 22 हजार बियार और अगरिया तथा 4000 कायस्थ तथा अन्य मतदाताओं की संख्या 22 हजार के करीब है।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com