Monday , October 3 2022

ग्राम पंचायतों में कुर्सी आपूर्ति कर भुगतान के लिए बना रहे दबाव

रमेश यादव ( संवाददाता )

दुद्धी। गावों में सौंदर्यीकरण के नाम पर बगैर कोई टेण्डर एवं बिना शासनादेश सीमेंटेट कुर्सी का आपूर्ति कर भुगतान के लिए दबाव बनाने में आपूर्तिकर्ता जुटे हैं जबकि जिला पंचायत राज अधिकारी द्वारा भुगतान पर रोक की बताई जा रही हैं। गांवों में सेटिंग्स के तहत आपूर्तिकर्ताओं ने जगह जगह कुर्सी लगवा दी।जिसके एवज में मनमानी धन आहरित करने की योजना चलने लगी ।बताया तो यहाँ तक गया कि कई गांवों में 40 से 50 सेट तक कुर्सी लगा दी गई और एक – एक कुर्सी का लगभग 10 से 12 हजार रुपये तक की दर से भुगतान भी कर दिए गए।जबकि मानक के अनुसार इस सीमेंटेट कुर्सी का कही भी कोई रेट तय नहीं दिखाई दे रही हैं।ऐसे में कुछ विरोध के बाद जिला प्रशासन ने इस पर संज्ञान लेते हुए इसके भुगतान पर रोक लगा दी है।
लोगों का आरोप है कि पंचायत विभाग के अधिकारियों से सेटिंग्स करके आपूर्तिकर्ताओं ने प्रत्येक गांवों में लाखों रुपए की कुर्सी गिरवाकर चट्टी चौराहों को छोड़कर व्यक्तिगत रूप से घरों के पास या वीरान जगहों पर लगवा दिया गया जहाँ उसका कोई उपयोग नही है औऱ गांव के विकास के लिए आए लाखों रुपये कुर्सी के लिए अनावश्यक रूप से खर्च करने के फिराक में हैं। कई गांवों में लगी कुर्सी तो 4 – 6 महीने में ही टूट गई है।

जिस तरह से गांवों में सीमेंटेट कुर्सी लगा कर सरकारी धन का बंदरबांट किया जा रहा उससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि सरकारी पैसे का गांव में किस तरह उपयोग किया जा रहा है। हालांकि अधिकारियों के रोक के बाद अब आपूर्तिकर्ता ग्राम विकास/पंचायत अधिकारियों तथा ग्राम प्रधान से मिलीभगत करके भुगतान के फिराक में जुट गए हैं और ग्राम पंचायतों से डोंगल लगाने का दबाव बना रहे हैं। नाम न छापने के शर्त पर कई ग्राम पंचायतों के ग्राम प्रधानों ने बताया कि कुर्सी की भुगतान पर रोक लगा दी गई है फिर भी कई आपूर्तिकर्ता भुगतान के लिए प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से दबाव बना रहे हैं।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com