Friday , September 30 2022

11 वीं शरीफ के मौके पर दुल्हन की तरह सजी दुद्धी जामा मस्जिद

रमेश यादव ( संवाददाता )

दुद्धी। ग्यारहवीं शरीफ के मुबारक मौके पर स्थानीय जामा मस्जिद में मंगलवार की रात जश्ने गौसुलवरा की महफिल का एहतमाम किया गया। कार्यक्रम का आगाज मकतब जब्बरिया के मौलाना जहांगीर द्वारा कुरान शरीफ की तिलावत से किया गया। इसके बाद हाफिज मसऊद रज़ा, कारी उस्मान, चाँद कवि, हाफिज रेजाउल रज़ा, रिजवानुद्दीन लड्डन, यूनुस खान, गुलाम गौस, मोबिनुल हुदा, शमशुल कादरी सहित अन्य क्षेत्रीय नातिया द्वारा नातख़्वानी पेश की गई। दारुल उलूम कादरिया नूरिया अरबी महाविद्यालय के मौलाना नजीरुल कादरी ने अपनी रूहानी तकरीर में हजरत गौसे आजम की सीरत व 11वीं शरीफ की फजीलत पर तकरीर करते हुए सरकार गौस पाक की पैदाइश से लेकर वफात शरीफ तक के वक्त के बहुत से तारीखी वाहियात को तफ्सील से बताया। कहा कि हर मोमिन को रिजके हलाल खाना चाहिए और अपने बीवी बच्चों को भी रीजके हलाल खिलाना चाहिए क्योंकि इंसान का खान पान उसके जाहिरी ज़िन्दगी में असर करता है। जैसा उसका खान पान रहेगा वैसे ही उसकी आनेवाली नस्लों पर उसका असर नमूदार होगा। सरकार गौसे पाक के वालिद ने हमेशा रिज्के हलाल खाया तो उनके घर में गौस-ए-आजम सरीखे हाफिज-ए-कुरान पैदा हुए जो कि अपने वालिदा के शिकम से ही हाफिज थे।

अंत में कादरिया तालीमी ग्रुप के संस्थापक हजरत नसीरे मिल्लत द्वारा मुल्क की तरक्की, आपसी सौहार्द व कौम की सलामती की रूहानी दुआख्वानी की गई। इस अवसर पर जामा मस्जिद के पेशईमाम हाफिज सईद अनवर, मौलाना गुलाम सरवर, हाफिज तौहीद साहब, डॉ ऐनुलहुदा, कलीमुल्लाह खान, फतेह मोहम्मद खान, मेराज अहमद, डॉ अज्जू सहित भारी संख्या में अक़ीदतमंद हजरात मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन मौलाना जहांगीर ने किया।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com