Monday , October 3 2022

किसानों पर मुकदमा दर्ज कर सरकार की छवि धूमिल कर रही पन्नुगंज पुलिस – संयुक्त किसान संगठन

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

● डीएम-एसपी से मिलकर किसानों पर दर्ज मुकदमा वापसी की करेंगे मांग

● पन्नूगंज कोतवाली प्रभारी पर लगाया सरकार को बदनाम करने का आरोप

सोनभद्र । पन्नूगंज कोतवाली में पूर्वांचल नव निर्माण मंच तथा पूर्वांचल नव निर्माण किसान मंच के किसानों पर मुकदमा दर्ज किए जाने से सोनभद्र के सभी किसान संगठन के नेताओं ने पन्नूगंज पुलिस की कार्रवाई पर कड़ी आपत्ति जताते हुए नाराजगी जाहिर की।

आज संयुक्त किसान संगठन के बैनर तले बैठक कर किसान नेताओं ने मुकदमा वापस कराने के लिए चर्चा करते हुए मुकदमा वापस न होने पर बड़े आंदोलन की रणनीति पर भी चर्चा हुई।

वक्ताओं ने बताया कि दिल्ली मे चल रहे किसान आंदोलन का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चे के आह्वान पर लखीमपुर खीरी मे मृतक किसानों को न्याय दिलाने की मांग के लिए चतरा विकास खंड के भवानी गांव मे पूर्वांचल नव निर्माण किसान मंच ने जनप्रतिनिधियों का पुतला दहन किया था। इससे नाराज होकर पन्नूगंज कोतवाली प्रभारी ने पुतला दहन मे शामिल मंच के सात नेताओं पर मुकदमा दर्ज कर नोटिस किसानों के घर भेज दिया। इतना ही नहीं पुतला दहन के दिन 16 अक्टूबर को पूरे दिन मंच के अध्यक्ष श्रीकांत त्रिपाठी को पन्नूगंज पुलिस ने घर पर नजरबंद कर रखा था। बावजूद इसके मुकदमे में उनका नाम भी पुलिस ने शामिल कर दिया है।

श्रीकांत त्रिपाठी ने विरोध दर्ज कराने वाले किसानों पर मुकदमा दर्ज किए जाने को अलोकतांत्रिक बताया।

मंच के नेता गिरीश पाण्डेय ने बताया भारतीय किसान यूनियन के नेता मनीराम पटेल, भारतीय किसान संघ के नेता चन्द्र भूषण पाण्डेय तथा भारतीय किसान यूनियन जनशक्ति के नेता देवेन्द्र सिंह के साथ संयुक्त किसान संगठन के बैनर तले किसानों का एक प्रतिनिधिमंडल 15 नवम्बर को सुबह जिलाधिकारी तथा पुलिस अधीक्षक को ज्ञापन सौंपकर किसानों पर दर्ज मुकदमे को तत्काल वापस कराने की मांग की जाएगी।

किसान नेताओं ने कहा पन्नूगंज पुलिस द्वारा किसानों पर मुकदमा दर्ज किया जाना सरकार की छवि को खराब करने जैसा है। लोकतांत्रिक तरीके से विरोध दर्ज कराने के अधिकार का अपहरण किया जाना पन्नूगंज के जिम्मेदार पुलिस के लोगों की कार्यशैली पर बड़ा सवालिया निशाना लगाता है। किसान नेताओं ने पन्नूगंज कोतवाली प्रभारी पर सरकार को बदनाम का आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश मे रोज जगह-जगह विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं। यदि पन्नूगंज पुलिस के जैसे सभी जगह की पुलिस असंवेदनशील होकर मुकदमा लिखने लगे तो अदालतों और थानों मे जगह ना बचे। किसान नेताओं ने कहा यदि जिला प्रशासन किसानों पर दर्ज मुकदमा वापस नहीं लिया जाता है तो संयुक्त किसान संगठन के बैनर तले किसान पन्नूगंज कोतवाली से लेकर कलेक्ट्रेट तक धरना-प्रदर्शन करने को बाध्य होंगे।

इस दौरान गंगेश्वर, शम्भू, झाला सिंह, विवेक, गोरख, मुराली, जय सिंह सहित अन्य किसान मौजूद रहे।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com