Friday , September 30 2022

सांध्य अर्घ्य के साथ नदियों व जलाशयों के किनारे वेदी पर बैठी छठ व्रती महिलाएं

रमेश यादव (संवाददाता)

– उप जिलाधिकारी रमेश कुमार ने विभिन्न छठ घाटों का किया दौरा, लिया व्यवस्थाओं का जायज़ा

-दुद्धी प्राचीन शिवाजी तालाब पर आकर्षण का केंद्र रहा गंगा आरती

दुद्धी।बिहार और पूर्वी उत्‍तर प्रदेश का सबसे प्रमुख त्‍योहार छठ पूजा के दूसरे दिन आज बुधवार को संध्या काल में नदियों एवं जलाशयों और तालाबों के किनारे अपनी वेदी पर पहुचीं। महिलाएं आज दूसरे दिन महिलाएं छठ घाट पहुँचकर स्नान करने के वेदी सांध्य अर्घ्य देने के बाद वेदी पर बैठ कर छठी मईया की पूजा अर्चना करते हुए रातभर बैठी रही। गुरुवार को अलसुबह उगते सूर्य को अर्घ्य के साथ छठ महापर्व का समापन होगा।कस्बे के प्राचीन शिवाजी तालाब,कैलाश कुंज द्वार मल्देवा ,लाऊवा नदी,खजुरी शिव मंदिर, दिघुल ठेमा नदी तथा टेढ़ा छठ घाट सहित अन्य स्थानों पर छठ पूजा के लिए महिलाएं वेदी पर बैठकर छठी मईया की अर्ज करती रहीं।दुद्धी के प्राचीन शिवाजी तालाब पर गंगा आरती आकर्षण का प्रमुख केंद्र रहा।बुधवार को छठ महापर्व के अवसर पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे।सीओ राम आशीष यादव व कोतवाल राघवेंद्र सिंह पूरे दल बल के साथ डटे रहे।

चौथे दिन सूर्योदय अर्घ्य एवं पारन –

चौथे दिन सुबह के अर्घ्‍य के साथ छठ का समापन हो जाता है. सप्‍तमी तिथि 11 नवम्बर को सुबह सूर्योदय के समय भी सूर्यास्त वाली उपासना की प्रक्रिया को दोहराया जाता है. विधिवत पूजा कर प्रसाद बांटा जाता है और इस तरह छठ पूजा संपन्न होती है।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com