Monday , September 26 2022

जब एम्बुलेंसकर्मी बने डॉक्टर, एम्बुलेंस में कराया प्रसव, जच्चा-बच्चा दोनों स्वस्थ

आनंद कुमार चौबे/रमेश यादव (संवाददाता)

सोनभद्र । आपातकालीन सेवा 108 नंबर एंबुलेंस सेवा जनपदवासियों के लिए वरदान साबित हो रही है। आज सुबह प्रसव पीड़ा से कराह रही महिला ने विंढमगंज थाना क्षेत्र के छतवा गाँव से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र दुद्धी लाते समय रास्ते में ही एंबुलेंस में शिशु को जन्म दिया। एंबुलेंसकर्मियों ने सुरक्षित प्रसव कराकर जच्चे-बच्चे की जान बचाई। जिसके बाद एम्बुलेंसकर्मियों ने जच्चा-बच्चा को सीएचसी दुद्धी भर्ती कराया गया है, जहां दोनों स्वस्थ हैं।

जानकारी के अनुसार विंढमगंज थाना क्षेत्र के छतवा गाँव निवासी मीना देवी (28वर्ष) पत्नी सुदेश्वरम को आज सुबह 8:55 बजे प्रसव पीड़ा उठी। स्वजन ने फोन से इसकी सूचना डॉयल 108 नं0 एम्बुलेंस को दी, 15 मिनट के अंदर ही 108 एंबुलेंस आ गई। इसमें इमरजेंसी मेडिकल टेक्निशियन (ईएमटी) राकेश कुमार और पायलट जयराम तैनात थे। एम्बुलेंस की सहायता से स्वजन गर्भवती महिला को अस्‍पताल ले जाने लगे। इसी बीच महिला दर्द से चिल्‍लाने लगी। गर्भवती की स्थिति बिगड़ने पर ईएमटी ने एंबुलेंस को रोककर महिला का प्रसव करने का निश्चय किया। अंततः ईएमटी के प्रयास से महिला की सफल डिलीवरी करा दी गई। वहीं ईएमटी राजेश कुमार ने बताया कि आपात स्थितियों से निपटने के लिए उन्होंने प्रशिक्षण लिया है। ईएमटी के इस अनूठे प्रयास की सभी मुक्‍त कंठ से प्रशंसा कर रहे हैं।

एंबुलेंस सेवा के डिस्ट्रिक प्रोग्राम मैनेजर आशीष सिंह ने बताया कि “अक्टूबर से अब तक 4 महिलाओं का एंबुलेंस में सुरक्षित प्रसव ईएमटी व पायलट के सूझबूझ से कराया है, सभी जच्चा-बच्चा स्वस्थ हैं। उन्होंने बताया कि एंबुलेंस में ड्यूटी करने वाले ईएमटी को हैदराबाद में प्रशिक्षण दिया जाता है। उन्हें सिखाया जाता है कि विषम परिस्थितियों का सामना वह कैसे करें। ऐसी परिस्थितियों से डरे नहीं, बल्कि विश्वास के साथ उनका सामना करें, जिससे मरीज की पूरी मदद हो सके।”

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com