Friday , October 7 2022

किसानों ने जनप्रतिनिधियों का पुतला दहन कर किया कृषि कानून को वापस लेने की माँग

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

किसानों की मांग मानने के अलावा सरकार के पास कोई विकल्प नहीं- अभय पटेल

सोनभद्र । संयुक्त किसान मोर्चे के आह्वान पर पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आज पूर्वांचल नव निर्माण किसान मंच के बैनर तले किसानों ने जिले के जनप्रतिनिधियों का पुतला दहन करके लखीमपुर खीरी मे मारे गए किसानों को न्याय दिलाने की मांग की। साथ ही दोषपूर्ण कृषि कानून की वापसी तथा न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कानूनन गारंटी देने की मांग की।

पूर्वांचल नव निर्माण मंच के जिलाध्यक्ष रमाकांत तिवारी तथा किसान नेता अभय पटेल के नेतृत्व में रॉबर्ट्सगंज-पन्नूगंज मार्ग पर भवानी गांव के सामने चौराहे पर किसानों ने नारेबाजी करते हुए विरोध दर्ज कराया।

नेताओं ने कहा कि किसानों की मांग जायज ही नहीं किसान हित में भी है। बगैर न्यूनतम समर्थन मूल्य पर कानूनन गारंटी किए किसानों की आय दोगुनी करने की कल्पना करना भी धोखा देने के समान है।

किसान आन्दोलन को प्रभावित करने की कवायद कर रही योगी सरकार की पुलिस ने पूर्वांचल नव निर्माण मंच के अध्यक्ष श्रीकांत त्रिपाठी तथा गिरीश पाण्डेय को कार्यक्रम के ठीक एक दिन पहले से ही नजरबंद कर दिया था। जिसके कारण मुख्यालय पर होने वाला पुतला दहन कार्यक्रम स्थगित कर किसानों ने गांव के चौराहे पर पुतला दहन किया। किसान नेताओं को नजरबंद किए जाने के सवाल का जवाब देते हुए मंच के अध्यक्ष श्रीकांत त्रिपाठी ने कहा सरकार किसान आन्दोलन से भयभीत है। हताशा में सरकार अब बल पूर्वक किसान आन्दोलन को कुचलने की कोशिश में लगी है, जो लोकतंत्र की हत्या करने से कम नहीं।

वहीं मंच के नेता गिरीश पाण्डेय ने विभिन्न राजनीतिक दलों में शामिल जनपद के किसानों से हक की इस लड़ाई में संयुक्त किसान मोर्चे के साथ शामिल होने की अपील किया।

कार्यक्रम में प्रमुख रूप से रमाकांत तिवारी, ओमप्रकाश देव, कृष्ण कुमार देव, लवकुश पाण्डेय, घनश्याम देव, सदायतन पाण्डेय, सुभाष चौहान, प्रबल पटेल समेत कई किसान उपस्थित रहे।

previous arrow
next arrow

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com