Sunday , October 2 2022

श्रीरामलीला-लक्ष्मण को शक्तिबाण लगते ही रामादल में मची हाहाकार

धर्मेन्द्र गुप्ता (संवाददाता)

-महुली में चल रहे रामलीला के मंचन का ग्यारहवाँ दिन

-विंढमगंज। स्थानीय राजा बरियार शाह खेल मैदान महुली में चल रहे श्रीरामलीला के ग्यारहवें दिन लक्ष्मण शक्ति,कुम्भकर्ण बद्ध,आदि सुंदर प्रसंगों के सुंदर मंचन किया गया।

रामलीला के क्रम में राम तथा रावण की सेना में युद्ध प्रारम्भ हो जाती है।इसी बीच मेघनाथ लक्ष्मण पर शक्ति बाण से प्रहार करते हैं जिससे लक्ष्मण मुर्क्षित हो कर युद्ध भूमि में गिर पड़ते हैं।जिससे श्रीराम के सेना में हाहाकार मच जाती है।

तब विभीषण बताते हैं कि लंका में सुषैन नाम का एक वैद्य है।हनुमान सुषैन वैद्य को के आते है।वैद्य के कहने पर हनुमान संजीवनी बूटी लेने हिमालय पर्वत पर चले जाते हैं।इसी बीच रावण कालनेमी नामक राक्षस को हनुमान को पथ में रोकने को भेजते है।हनुमान उसे पहचान जाते हैं और उसका बद्ध कर देते हैं।

उधर संजीवनी बूटी पहचान में नही आने पर हनुमान पूरा पर्वत ही उठा लाते हैं।

लौटते वक्त अयोध्या के ऊपर से उड़ते वक्त भरत के बाण से हनुमान मुर्क्षित हो जमीन पर गिर पड़ते हैं और उनके मुख से राम-राम निकलता है।यह सुनकर भरत हैरत में पड़ जाते हैं और अफ़सोस करते हैं कि यह हमसे कैसा अनर्थ हो गया।पुनः हनुमान बूटी लेकर उड़ते हैं।संजीवनी बूटी के कारण लक्ष्मण की मुरक्षा दूर हो जाती है।

इस मौके पर पहुँचे थानाध्यक्ष विंढमगंज सूर्यभान राम का समिति ने स्वागत किया।

थानाध्यक्ष ने लोगों से शांति पूर्ण तरीके से त्योहार मनाने की अपील की।पूर्व जिला जज एवं रामलीला समिति के संरक्षक राजन चौधरी ने कहा कि हम दर्शकों तथा ग्रामीणों के आभारी हैं जिन्होंने विगत दस दिनों से चल रहे रामलीला को शांतिपूर्ण तरीके से मंचन कराने में अपना सहयोग दे रहे है।इस अवसर पर रामलीला समिति के अध्यक्ष अरविन्द जायसवाल, शेषमणि चौबे, राजकपूर कन्नौजिया, बीरेंद्र कन्नौजिया(पिंकी),सूर्यप्रकाश कन्नौजिया,राजनाथ गोस्वामी, विकास कन्नौजिया,पंकज गोस्वामी मौजूद रहे।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com