Wednesday , October 5 2022

संत परमहंस ने इस बार तारीख भी बदली और स्थान भी, पढ़ें पूरी खबर

० अपने फैसले से फिर पलटे संत परमहंस

० अब दिल्ली के रामलीला मैदान में 7 नवम्बर 2023 को शुरू करेंगे आमरण अनशन

अयोध्या के तपस्वी छावनी के संत परमहंस द्वारा सरयू में जल समाधि की घोषणा के बाद शनिवार को लगभग 12 घंटे जबरदस्त सरगर्मी रही यह सरगर्मी आखिरकार शाम 6:00 बजे संत परमहंस की इस घोषणा के साथ समाप्त हुई की अब उन्होंने सरयू में जल समाधि का अपना निर्णय बदल दिया है अब भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करने का उनका अगला कार्यक्रम 7 नवंबर 2023 को आमरण अनशन के साथ शुरू होगा लेकिन इस बार आमरण अनशन का यह कार्यक्रम अयोध्या में ना होकर दिल्ली के रामलीला मैदान में होगा ।

आपको बता दें कि संत परमहंस इसके पहले भी हिंदू राष्ट्र को लेकर चिता में जल जाने के लिए तपस्वी छावनी में अपनी चिता सजाई थी लेकिन चिता पूजन के बाद पुलिस प्रशासन की सक्रियता के चलते उन्होंने अपना निर्णय बदल दिया था इसके बाद उन्होंने 2 अक्टूबर 2021 अगली तारीख घोषित की थी और कहा था कि उक्त तारीख तक अगर भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित न किया गया तो वह दोपहर 12:00 बजे सरयू में जल समाधि ले लेंगे इसीलिए शनिवार को सुबह से पुलिस और प्रशासनिक अफसरों के साथ मीडिया का भी जमावड़ा लग गया यह पूरी सरगर्मी शाम को 6:00 बजे रेजिडेंट मजिस्ट्रेट अयोध्या आयुष चौधरी के ज्ञापन लेने के साथ समाप्त हुई ज्ञापन सौंपने के साथ ही संत परमहंस ने अब भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करने के लिए एक और तारीख दे दी है और यह तारीख है 7 नवंबर 2023 को संत परमहंस की माने तो इसी तारीख को दिल्ली के रामलीला मैदान में करोड़ों लोगों की मौजूदगी में वह हिंदू राष्ट्र के लिए आमरण अनशन शुरू करेंगे और 2424 में भारत हिंदू राष्ट्र घोषित हो जाएगा ।

साफ जाहिर है संत परमहंस द्वारा बार- बार तारीख और समय बदलने के चलते संत परमहंस के ऊपर सवाल भी खड़े हुए हैं और उनकी विश्वसनीयता को लेकर चर्चा भी हो रही है लेकिन संत परमहंस हैं जो कहते हैं लाखों भक्तों के अनुरोध पर उन्होंने अपना फैसला बदला है ।

जितने हिंदूवादी संगठन हैं सारे संगठनों के राष्ट्रीय अध्यक्ष और 100 करोड़ हिंदू भाई बहनों की ओर से यह रिक्वेस्ट आ रहे हैं कि अभी तक भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित कराने के इस मांग को इतनी प्रमुखता से कोई नहीं उठाया था लोगों का कहना यह है कि अभी हम लोग नेतृत्व को नहीं चल पा रहे थे कि किसके नेतृत्व में 100 करोड़ हिंदू इकट्ठा हो सभी हिंदू संगठन कहते थे कि किसके नेतृत्व में इकट्ठा हो इसलिए हम सभी 100 करोड़ हिंदू संगठन और भाई बहनों के आग्रह पर हम जो है जल समाधि के उस निर्णय को छोड़ कर के आज घोषणा करते हैं 100 करोड़ हमारे हिंदू भाई बहन हैं साथ साथ जितने हिंदू संगठन हैं मिल कर के हम लोग प्रयास करेंगे और आदरणीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत को हिंदू राष्ट्र घोषित करा आएंगे इसके लिए लगातार संघर्ष और प्रयास जारी रहेगा 7 नवंबर 2023 को अगर तब तक नहीं हुआ तो रामलीला मैदान में हजारों नहीं लाखों नहीं करोड़ों की संख्या में सभी हिंदू भाई बहन सभी हिंदूवादी संगठन एकजुट होकर वहां पर हमारा आमरण अनशन होगा और 24 के पहले भारत हिंदू राष्ट्र घोषित हो जाएगा मुझे मोदी जी पर विश्वास है।)

previous arrow
next arrow

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com