Tuesday , October 4 2022

भाकियू ने कृषि कानून के विरोध में धरना प्रदर्शन कर प्रधानमंत्री को संबोधित एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

गौरव पाण्डेय (संवाददाता)

फरीदपुर (बरेली) । तहसील फरीदपुर में आज भारत सरकार द्वारा किसानों के समर्थन में लाए गए कृषि बिल के विरोध में भारतीय किसान यूनियन के बैनर तले क्षेत्र के बड़ी संख्या में पहुंचे किसानों ने सोमवार को राष्ट्रीय राजमार्ग पर मुखर्जी पेट्रोल पंप के पास धरना प्रदर्शन कर किसानों पर थोपे गए कृषि बिल को वापस लिए जाने की मांग करते हुए धरना प्रदर्शन किया और प्रधानमंत्री को संबोधित इस आशय का एक ज्ञापन उप जिलाधिकारी कुमार धर्मेंद्र को सौंपा।भारतीय किसान यूनियन के पूर्व जिला अध्यक्ष गजेंद्र सिंह यादव के नेतृत्व में क्षेत्र के बड़ी संख्या में पहुंचे किसानों ने सोमवार को राष्ट्रीय राजमार्ग पर मुखर्जी पेट्रोल पंप के पास सुबह 10:00 बजे धरना प्रदर्शन किया और भारत सरकार द्वारा बनाए गए तीन कृष कानून को किसान विरोधी करार दिया और इसे शीघ्र वापस लिए जाने की मांग की धरने को संबोधित करते हुए निर्भय सिंह यादव ने कहा कि आज देश का किसान 10 महीने से कृषि बिल के खिलाफ धरने पर बैठे हैं मगर भारत सरकार इस बिल को वापस नहीं ले रही है इससे साबित हो गया है कि यह सरकार किसान विरोधी है।

भाकियू के पूर्व जिलाध्यक्ष गजेंद्र सिंह यादव चौधरी सोमवीर सिंह सुनील यादव ने भी संबोधित किया और सरकार द्वारा किसानों पर थोपे गए तीनों कृषि बिल को वापस लिए जाने की मांग की। किसानों द्वारा किए जा रहे धरना प्रदर्शन को समाजवादी पार्टी व कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने भी धरने में पहुंचकर समर्थन किया। धरने के उपरांत किसान राष्ट्रीय राजमार्ग पर प्रदर्शन व नारेबाजी करते हुए निकले तभी बीसलपुर मोड़ पर किसानों से मिलने पहुंचे उपजिलाधिकारी कुमार धर्मेंद्र को किसानों ने प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन सौंपा और कहा भारत सरकार द्वारा बनाए गए कृषि संबंधित तीनों कानून किसान विरोधी हैं हम सभी किसान इस बिल का विरोध करते हैं 10 महीनों से निरंतर किसान इसका विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं उपरोक्त किसान विरोधी तीनों कृषि कानूनों पर विचार कर तुरंत इसे वापस लिया जाए एवं न्यूनतम समर्थन मूल्य को सभी फसलों पर फल और सब्जी पर लागू करते हुए कानून बनाया जाए समर्थन मूल्य से कम पर फसल खरीद को अपराध की श्रेणी में शामिल किया जाए। यदि भारत सरकार किसानों की समस्याओं पर विचार नहीं करती है तो इसी तरह किसान विरोध प्रदर्शन करते रहेंगे।

दूसरा ज्ञापन भाकियू ने क्षेत्रीय किसानों की स्थानीय समस्याओं को लेकर सौंपा और कहा शासनादेशों के अनुसार गांव में लेखपाल मीटिंग कर एवं संबंधित खातेदारों से संपर्क कर खतौनी में हिस्सेदारी दर्ज करेंगे जबकि धरातल पर ऐसा कुछ नहीं हो रहा है ग्राम बाकरगंज में ना किसी किसान को पता है की खतौनी में इससे दर्ज किए जा चुके हैं ना ही किसी लेखपाल ने संपर्क किया और गलत तरीके से हिस्से दर्ज कर दिए इसकी जांच कराई जाए ऐसा अन्य गांव में भी है जिसके विषय में हम किसान आपको अवगत कराना चाहते हैं इस पर तत्काल जांच कर कार्रवाई होनी चाहिए। किसानों के धरना प्रदर्शन करने की जैसे ही जानकारी पुलिस प्रशासन को मिली तो कोतवाली प्रभारी अजय पाल सिंह कस्बा इंचार्ज राजकुमार भारी पुलिस फोर्स के साथ धरना स्थल पर पहुंच गए। और प्रदर्शन कर रहे किसानों के धरना स्थल की किलेबंदी कर दी। धरने में मुख्य रूप से वाक्यों के पूर्व जिला अध्यक्ष गजेंद्र सिंह यादव सुनील यादव चौधरी सोमवीर सिंह सपा के निर्भय सिंह यादव हरिओम चौधरी अवनीश यादव टीके यादव अखिल यादव। कांग्रेस के मंगल बाबू सहित बड़ी संख्या में क्षेत्र से पहुंचे किसान शामिल थे।

previous arrow
next arrow

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com