Thursday , September 29 2022

गंगा नदी में समाई नाव, तीन बच्चों समेत 6 लोग डुबे

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

चौदह सवार में से छह नदी में समाए

● विन्ध्याचल के अखाड़ा घाट की घटना

विन्ध्याचल । विन्ध्याचल के अखाड़ा घाट के सामने उस पार नाव पर सवार होकर नाविक व स्थानीय फोटोग्राफर सहित कुल चौदह लोग स्नान कर वापस लौट रहे थे। उसी वक़्त तेज हवा के साथ ज़ोरदार बारिश शुरू हो गई। जिसके चलते नाव नाविक के नियंत्रण से बाहर होकर वहीं जलमग्न हो गई। नाव पर सवार लोगों में से आठ लोग तो बाहर आ गए लेकिन छह लोग नाव के साथ पानी मे समा गए। प्राप्त जानकारी के अनुसार राँची, झारखण्ड, बक्सर व बिहार से जीजा साले का परिवार एक निजी वाहन से माँ विन्ध्यवासिनी के दर्शन हेतु आया था। दर्शन के पूर्व गंगास्नान के लिए अखाड़ा घाट पहुँचे। घाट पर अपनी मोटरबोट के साथ नाविक ने उन्हें बताया कि नदी के उस पार स्नान करने के लिए बेहतर स्थान है। नाविक के समझाने के पश्चात समस्त दर्शनार्थी जिसमे चार आदमी तीन औरत व पाँच बच्चे शामिल थे। एक स्थानीय फोटोग्राफर भी उनका फोटो शूट के लिए नाव पर सवार हो गया। नाव चालक सहित कुल चौदह लोग नाव पर सवार होकर नदी के उस पार पहुँचे, जहाँ उन लोंगो ने आनन्दित होकर स्नान किया। अचानक तेज हवाओं के साथ बरसात होने लगी। सभी लोग पुनः नाव पर सवार होकर वापस लौटने लगे। एक प्रत्यक्षदर्शी के अनुसार नाव एक नाबालिक लड़का चला रहा था। तेज बहाव के विरुद्ध उसने नाव को काफी तीव्रता से मोड़ने का प्रयास किया जिसके चलते नाव अनियंत्रित होकर पानी मे डूबने लगी। नाव के ऊपर बैठने के लिए रखा हुआ थर्माकोल के सीटों की बदौलत चारो पुरुष पानी के ऊपर आ गए। उन्होंने अपनी दो पुत्रियों को भी ऊपर खींच लिया। नाविक व स्थानीय फोटोग्राफर भी जो तैरना जानते थे पानी के ऊपर थे। घटना का दृश्य देखकर घाट के किनारे खड़े नाविक अपनी मोटरबोट लेकर जबतक घटनास्थल तक पहुँच पाते तबतक बाकी छह और सवार नाव सहित पानी मे समाहित हो चुके थे।

डूबने वालों में गुड़िया (28वर्ष) पत्नी विकास, खुशबू (30वर्ष) पत्नी राजेश, अनीसा (26वर्ष) पत्नी दीपक, सत्यम (5वर्ष) पुत्र विकास, शौर्य (ढाई वर्ष) पुत्र विकास व दीपक का एक दो माह का दुधमुंहा बच्चा शामिल थे। वही राजेश, विकास, दीपक, सुदीप कुमार, अलका 9 वर्ष पुत्री राजेश, रितिका 7 वर्ष पुत्री राजेश, नाविक गोटम पुत्र गुरु निषाद तथा स्थानीय फोटोग्राफर नाम ज्ञात नही इत्यादि सुरक्षित रूप से बाहर लाये गए। नाविक गोटम व अलका को इलाज के लिए अस्पताल भेज दिया गया। जहाँ उपचार के पश्चात उनकी हालत स्थिर थी। घटना के बाद घाट के किनारे स्थानीयों की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। घटना जानकारी के पश्चात जनपद के आलाधिकारी मौके पर पहुँचे। अधिकारियों घटना को अत्यंत दुखद बताया।

जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार ने कहा कि गंगानदी के जलस्तर में वृद्धि के साथ ही मैंने करीब डेढ़ महीने पूर्व नाव संचालन पर पूर्ण पाबन्दी के निर्देश दिया था, उसके बावजूद नदी में नाव संचालित होना बड़ी लापरवाही है। इस लापरवाही के चलते इतनी बड़ी व दुःखद घटना घटी है। जिम्मेदार लोगों पर कड़ी कार्यवाई की जाएगी।

पुलिस उपमहानिरीक्षक आर0के0 भारद्वाज व पुलिस अधीक्षक अजय कुमार सिंह ने भी घटनास्थल पर पहुंचकर सुरक्षित परिजनों से बातचीत की। डूबे लोगों की खोज में गोताखोरों के अतिरिक्त पीएसी व एनडीआरएफ की टीम जुटी थी।

नगर मजिस्ट्रेट विनय कुमार सिंह व क्षेत्राधिकारी नगर प्रभात राय व तीन थानाक्षेत्रों की टीम पूरी जिम्मेदारी से डूबे लोगों की तलाश में जुटे लोगों के साथ मोटरबोट पर सवार होकर भ्रमण करते दिखाई दिए। नगर विधायक रत्नाकर मिश्र भी घटनास्थल पर पहुँचे। उन्होंने हर सम्भव सरकारी मदद का आश्वासन दिया।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com