Wednesday , September 28 2022

एक तरफ वन विभाग मीडिया को गिना रही थी उपलब्धि, दूसरी तरफ खनन माफिया उड़ा रहे थे नियमों की धज्जियां

घनश्याम पांडेय/विनीत शर्मा (संवाददाता)

– नहीं बंद हुआ साइकिल से बालू ढुलाई

– साहेब कभी ट्रक टीपर व ट्रैक्टरों पर भी हो जाती नजरें इनायत

– चोपन जुगैल व डाला क्षेत्र बना बालू खनन का अवैध अड्डा

चोपन । डाला रेंज के वन अधिकारी व कर्मचारियों का सीना आज सचमुच 56 इंच का दिख रहा था । पहली बार इतनी बड़ी कार्यवाही को लेकर जब वे मीडिया से मुखातिब हुए तो उनके चेहरों पर जबरदस्त चमक दिख रही थी । होना भी चाहिए क्योंकि अवैध खनन में लिप्त 21 साइकिल को जप्त किया है । मगर वन विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों को शायद यह पता नहीं चल सका कि जब वे अपनी कार्यवाही का बखान कर रहे थे उसी वक्त सिंदुरिया क्षेत्र से खुलेआम दर्जनों साइकिल सवार बालू ढो रहे थे ।

हालांकि वन विभाग अपनी कार्यवाही में कहानी तो पूरी बताया लेकिन विभाग द्वारा जप्त साइकिल मीडिया को दिखाने व फोटो खींचने से मना कर दिया। वन विभाग की दलील है कि उनकी अपनी मजबूरी है इसलिए साइकिल नहीं दिखा सकते ।

यह तस्वीर उस वक्त की है जब आज सुबह वन विभाग की टीम अपना सीना चौड़ा कर मीडिया को अपनी उपलब्धि गिना रहे थे । जब वन विभाग के अधिकारी कर्मचारी मीडिया को बता रहे थे कि कैसे उनकी टीम अवैध खनन के खिलाफ है और वे कार्यवाही से बिल्कुल परहेज नहीं करते । उसी समय सिंदुरिया क्षेत्र में दर्जनों साइकिल सवार नदी से बालू भर कर ढोने में व्यस्त थे । जब हमने उनसे पूछा कि यह बालू का क्या करते हैं तो बोले कि लोकल में 5-10 रुपये प्रति बोरी रखकर बेच देते हैं ।

दरअसल पूरा मामला चोपन क्षेत्र का है जहां सोन नदी के किनारे बड़ी संख्या में लोग साइकिल व बाइक से बालू का अवैध खनन कर परिवहन करते हैं । वन विभाग को शायद पहले इसकी जानकारी नहीं थी कि उनके क्षेत्र से अवैध बालू साइकिलों व बाइसाइकिल से ढोया जा रहा है। मीडिया में खबरें छपी तो वन विभाग सक्रिय हुआ औऱ अपने दल-बल के साथ मौके पर जा धमके । वन विभाग की टीम को देखकर मौके पर खनन कर रहे लोग फरार हो गए । बाद में टीम ने मौके से 21 साइकिल को जप्त कर अपने कब्जे में ले लिया और सील कर दिया ।

इस दौरान रेंजर ने बताया कि साइकिल से अवैध बालू ढो रहे लोगो के साइकिलो को जप्त कर लिया गया है और वन अधिनियम 5/26 व 41/42 के तहत कार्यवाही की गई है। उन्होंने बताया कि मौके से साइकिल चालक भागने में कामयाब रहे । उन्होंने साफ कहा कि सोन नदी से किसी भी हालत में अवैध बालू नहीं निकालने दिया जाएगा हमारी टीम प्रतिदिन निगरानी में है।
लेकिन शायद रेंजर साहब को पता नहीं कि जब वे बयानबाजी में लगे थे तब भी लोग बालू निकाल भी रहे हैं और खुलेआम ढो भी रहे थे ।

बहरहाल जितनी एनर्जी वन विभाग इन दिनों चिन्दी चोरों को पकड़ने में लगाया हुआ है, उतनी एनर्जी कभी जुगैल क्षेत्र से बालू जबलोड हो रही ट्रैक्टर, टीपर व ट्रकों पर लगाए तो शायद बड़ी कार्यवाही हाथ लगेगी। लेकिन सच यह है कि इस तरह की कार्यवाही के दौरान सीना भले ही 56 इंच का न हो लेकिन मनोबल ऊंचा होना चाहिए

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com