Monday , September 26 2022

अपडेट: पुलिस ने नहीं दिखाई सक्रियता तो ग्रामीणों ने खुद उठाया यह कदम, पढ़ें पूरी खबर

संजय केसरी / अर्जुन मौर्या (संवाददाता)

– साइबर क्राइम के दो ठगों को ग्रामीणों ने पकड़कर किया पुलिस के हवाले

– दर्जनों ग्रामीणों से हुई थी ठगी

– शौचालय व आवास के नाम पर खाते से उड़ा दिए थे पैसे

– चोपन थाना क्षेत्र के ग्राम पंचायत कोटा के टोला कानो पान की घटना

डाला । लगता है अब जनता का यूपी पुलिस पर भरोसा कम होता जा रहा है । इसका नजारा आज चोपन थाना क्षेत्र में उस वक्त देखने को मिला जब साइबर क्राइम के दो लोगों को ग्रामीणों ने पकड़ कर बिठा लिया और बाद में पुलिस के हवाले कर दिया ।

आपको बतातें चलें कि पिछले 29 जुलाई को दो युवक ग्राम पंचायत कोटा के टोला कानो पान गांव में अधिकारी बन कर आए और आवास व शौचालय भरवाने के नाम पर गांव वालों से उनसे आधार व बैंक पासबुक मांग कर उनसे ठगी कर खाते से पैसा निकाल लिया था। इस घटना की खबर को प्रमुखता से जनपद न्यूज Live ने प्रकाशित किया था। लेकिन पुलिस इसे गंभीरता से नहीं ली । ठगी के शिकार हुए गरीब आदिवासी इसको लेकर थाने के चक्कर भी लगाए लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई बल्कि मामला तक दर्ज नहीं किया गया । हाल ही में ग्रामीणों ने पुलिस अधीक्षक से इसे लेकर गुहार भी लगायी थी जिसके बाद पुलिस अधीक्षक ने एक बार फिर थाने जाकर तहरीर देने की बात कही थी । इसे लेकर ग्रामीण सचेत थे और आज जब दो युवक जवारीडाड़ में देखे गए तो ग्रामीणों ने उनका पीछा कर उन्हें नवटोलिया सरकारी स्कूल के पास धर दबोचा और फिर गुरमुरा ले आए। जब गांव वालों ने उनसे गांव में हुए ठगी कर उनके खाते से पैसा निकालने की बात पूछा तो उन्होंने अपना जुर्म कबूल करते हुए कहा कि हाँ हमने ही निकाला हैं। गांव के लोगों द्वारा इसकी सूचना चोपन थाने को दी गई ।

सूचना मिलते ही पुलिस एक्शन में आ गयी औऱ एसएसआई राजनारायण यादव मौके पर पहुंचकर उनसे पूछताछ की तो पता चला उनके बाइक में कुछ फाइल व वह मशीन मिला जिससे वे लोगों का अंगूठा लगवाकर पैसा निकालने का कार्य करते हैं। पुलिस की पूछताछ में एक ने अपना नाम धमेंद्र भारती व दूसरे ने सतेश्वर भारती निवासी ग्राम पंचायत नोडिहा के टोला तेनवादामर का बताया । बाद में चोपन पुलिस ने उन दोनों युवकों को अपने साथ चोपन थाने ले गई।

चोपन थाने के एसएसआई राजनारायण यादव ने बताया कि पीड़ित आदिवासी ग्रामीणों को थाने पर बुलवाया हैं ताकि जिसका जिसका पैसा निकला हैं उसे वापस दिलवाकर आगे की कार्यवाही की जाएगी।

जिन आदिवासी ग्रामीणों के खाते निकाला गया पैसा उनमें सुखदेव पुत्र बोधन के खाते से 2000 (दो हजार), फुलमतिया पत्नी रामबिलास के खाते से 5000( पांच हजार), क़िस्मतीय पत्नी रामप्रसाद, 150 एक सौ पच्चास, मान कुँवर पत्नी दसई के खाते से 5000 (पांच हजार), सुबित्री पत्नी सुखलाल के खाते से (1000 एक हजार), भगवान दास पत्नी सुखदेव के खाते से 4000 (चार हजार), बुधनी पत्नी राम सिंह के खाते से 1000(एक हजार), व राम सुंदर पुत्र लोकई शामिल हैं जिनके खाते से 1000 (एक हजार) रुपये निकाले गए हैं।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com