Tuesday , October 4 2022

झोलाछाप डॉक्टर की दबंगई, सील दुकान को खोलकर शुरू कर दी प्रैक्टिस, मामला पहुंचा थाने

गौरव पांडेय (संवाददाता)

फाइल फोटो

फरीदपुर (बरेली) । झोलाछाप की दुकान पर दवाई लेने गई गर्भवती महिला को पेट में मरा हुआ बच्चा होने की बात कहकर झोलाछाप ने उसका गर्भपात कर दिया था । महिला के पति की शिकायत पर 23 जुलाई को स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उसके क्लीनिक पर छापा मारकर उसे सील भी कर दिया था । मगर विभाग को बगैर सूचना दिए झोलाछाप ने क्लीनिक पर लगी सील तोड़ कर अपना क्लीनिक फिर चालू कर दिया जिसकी शिकायत पीड़िता ने स्वास्थ्य विभाग को प्रार्थना पत्र देकर की है।
नगर के मोहल्ला पारा पुराना बीसलपुर रोड निवासी की पत्नी झोलाछाप के क्लीनिक पर दवा लेने गई थी, झोलाछाप ने बगैर जांच कराए ही कह दिया कि उसके पेट में बच्चा मर चुका है इसलिए उसका शीघ्र ही गर्भपात कराना होगा । फिर उसका झोलाछाप ने खुद ही गर्भपात कर दिया लेकिन गर्भपात होने के बाद उसकी हालत बिगड़ गई और उसे पीड़िता के पति बरेली एक निजी अस्पताल में लेकर गया जहां उसने उसका इलाज कराया । गरीब ने किसी तरह लाखों रुपया कर्जा लेकर अपनी पत्नी की जान बचाई । पीड़िता के पति ने घटना की शिकायत आलाधिकारियों को पत्र भेजकर की थी । जिस पर सीएचसी अधीक्षक डॉ बासित अली ने टीम के साथ मोहल्ला परा पहुंचकर झोलाछाप के क्लीनिक पर छापा मारा दुकान पर झोलाछाप एक युवती मरीजों का इलाज करते मिले थे । टीम ने उसकी डॉक्टरी डिग्री एवं अस्पताल के पंजीकरण के कागजात मांगे थे जिन्हें ना दिखाने पर 23 जुलाई को उसका क्लीनिक सील कर दिया था । मगर झोलाछाप डॉक्टर ने बगैर स्वास्थ्य विभाग को सूचना दिए अपनी दबंगई के चलते अस्पताल में स्वास्थ्य विभाग द्वारा लगाई गई सील को तोड़कर पुनः क्लीनिक शुरू कर दिया और मरीजों का इलाज कर रहा है।
इस मामले में फरीदपुर समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक डॉ बासित अली ने बताया कि सूचना मिली है कि झोलाछाप डॉक्टर द्वारा क्लीनिक पर लगी सील तोड़कर क्लिनिक शुरू कर दिया गया है। झोलाछाप के खिलाफ पत्र लिखकर थाने में दे दिया है और झोलाछाप के खिलाफ कार्रवाई कराई जा रही है।

previous arrow
next arrow

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com