Monday , October 3 2022

रोडवेज के सफर में रोड़ा बने टायर, दर्जनों बसें खड़ी

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । यूपी परिवहन का हाल इन दिनों खस्ताहाल बना हुआ है। संसाधनों के अभाव में बड़ी संख्या में बसें डिपो के अंदर खड़ी धूल फांक रही हैं। अधिकांश बसों के टायर खराब हो गए, जो सफर में रोड़ा बनते हैं। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर शुरू होने से पहले ही इन बसों का पहिया थम गया था लेकिन अब तक इनका पहिया नहीं बदला जा सका है। बस खड़ी होकर कबाड़ हो रही हैं। यदि इनमें टायर लगा दिया जाए तो सड़कों पर फर्राटा भरने लगेंगी। इससे जहां विभाग की इनकम होगी। वहीं यात्रियों को भी सहुलियत मिलेगी।

अधिकारी बताते हैं कि टायर मुख्यालय से आएंगे जिसका इंतजार किया जा रहा है, उच्चाधिकारियों से पत्राचार भी किया गया है। आलम यह है कि यात्रियों को मजबूरी में प्राइवेट बसों का सहारा लेना पड़ रहा है।

यह तस्वीर यूपी में सबसे अधिक राजस्व देने वाले डिपो सोनभद्र डिपो की है, जहाँ दर्जनों बसें टायरों और स्पेयर पार्ट्स के अभाव में महीनों से धूल फांक रही हैं मगर शासन स्तर पर इनका कोई सुधि लेने वाला नहीं है। उच्चाधिकारियों की लापरवाही का ही नतीजा है कि परिवहन निगम सोनभद्र में 61 बसें होने के बाद भी मात्र 42 बसों का ही संचालन हो पा रहा है। कुछ टायरों और अन्य छोटे-मोटे स्पेयर पार्ट्स के अभाव में तो कुछ बसें सरेंडर हालत में खड़ी हो चुकी हैं।

देखें वीडियो

आपको बतादें कि यह हाल तब है जब सोनभद्र डिपो पूरे प्रदेश में सबसे ज्यादा मुनाफा देने वाला डिपो है। डिपो इंचार्ज आर0के0 सिंह का कहना है कि टायर और स्पेयर पार्ट्स न आने से यह सभी गाड़ियां खड़ी हैं।

हालांकि विपक्ष का आरोप है कि सरकार केवल मुनाफा देख रही है। उनके रख रखाव पर कोई ध्यान नहीं है। उनका कहना है कि सरकार इसे भी निजीकरण की तरफ ले जाने की साजिश रच रही है।

बहरहाल जहां एक तरफ सरकार सरकारी खजाने की कमी से जूझ रही है वहीं मुनाफा देने वाली इन संस्थाओं पर यदि ध्यान नहीं दिया गया तो आने वाले समय में यह संस्था में घाटे में चली जाएंगी और इनका हस्र भी सोनभद्र के सीमेंट निगम की तरह ही हो जाएगा।

previous arrow
next arrow

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com