Saturday , October 1 2022

लापरवाही बरतने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के खिलाफ होगी कार्यवाई- डॉ गुरु प्रसाद

रमेश यादव (संवाददाता)

दुद्धी। कोरोना महामारी की तीसरी लहर भारत में कब आएगी, इसको लेकर वैज्ञानिक दूसरी लहर के बाद से आशंका जताने लगे थे। ताजा अनुमान में कहा गया है कि तीसरी लहर सितंबर और अक्तूबर के बीच आ सकती है। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने अनुमान लगाया है कि ये दूसरी लहर के मुकाबले कम गंभीर हो सकती है। उक्त बातें स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक डॉ गुरु प्रसाद मौर्या ने मंगलवार को दुद्धी सीएचसी में कॅरोना की तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर आयोजित बैठक में प्रसाविकाओं, आशा संगिनी, आशा सर्विलांस व स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि तीसरी लहर में बच्चों के लिए दो चीजें ध्यान रखना है। बच्चों में बीमारी माइल्ड स्तर पर होती है मेजोरिटी स्तर पर बच्चे कवर हो जाते हैं 97 फीसदी बच्चे ठीक हो जाते हैं, कोविड प्रोटोकॉल से। लेकिन बच्चे एक तरह से सुपर स्प्रेडर भी है। जिन्हें पहले से कोई बीमारी है जैसे डायबिटीज, बीपी आदि बुजुर्गों में अधिक होती है। बुजुर्गों का इम्यून सिस्टम कमजोर होता है। इसलिए बच्चों से दूर और एकदम अलग रखा जाता है। बच्चों में जब इंफेक्शन कम होता है तब बच्चों को 14 दिनों तक होम आइसोलेट रहना पड़ता है।

इस दौरान उन्हें सभी कोविड नियमों का पालन करना जरूरी है। तीसरी लहर को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग से जुड़े हर अधिकारी/कर्मचारियों को अपनी ड्यूटी के प्रति बेहद संवेदनशील रहना होगा। अपने कर्तव्यों में निर्वहन के प्रति लापरवाही बरतने वाले स्वास्थ्यकर्मियों के विरुद्ध कार्यवाई तय है।
बैठक में पिरामल स्वास्थ्य नीति आयोग के ब्लॉक परिवर्तन अधिकारी नन्द लाल एवं ब्लॉक कार्यक्रम मैनेजर संदीप, ब्लॉक कम्युनिटी प्रोसेस प्रबंधक श्रीमति सुनीता द्वारा ब्लॉक की सभी एएनएम, आशा संगिनी, आशा सर्विलांस को कोरोना किट के उपयोग के बारे प्रशिक्षण दिया गया। इसके उपरांत पिरामल स्वास्थ्य नीति आयोग के सहयोग से दुद्धी ब्लॉक के अधीक्षक डॉ गुरू प्रसाद द्वारा सभी सर्विलांस कोरोना किट ( किट में मास्क N95, सर्जिकल, फेस शील्ड, सेनिटाइजर, थर्मामीटर, पल्स ऑक्सीमीटर, तौलिया, सेल आदि) का वितरण किया गया ।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com