Saturday , October 8 2022

योगी सरकार अवैध खनन व परिवहन पर पूरी तरह फेल, माफियाओं को न रोक सकी और न ठोक सकी

रिपोर्ट : शान्तनु कुमार

सरकार चाहे किसी की भी रही हो अवैध खनन व परिवहन हर सरकार के लिए बड़ी मुसीबत रही है । पिछले सरकारों में खनन को लेकर हुई किरकिरी के बाद योगी सरकार के आने के बाद लगा कि शायद अब यूपी में अवैध खनन व परिवहन पर अंकुश लगेगा। लेकिन योगी सरकार भी अवैध खनन व परिवहन पर तो अंकुश नहीं लगा सकी लेकिन मौजूदा सरकार में प्रदेश की सबसे बड़ी रेत की मंडी ही बंद है। और इसी की आड़ में खनन माफियाओं का अवैध खनन तेजी से फल-फूल रहा है । यदि आप खनन गाड़ियों की संख्या और नजर डालें तो खनन साइडें शुरू होने पर जितनी गाड़ियां चलती थी आज साइडें बंद होने के वावजूद गाड़ियों की संख्या में कमी नहीं आयी । प्रशासन दावा करता है कि यहां बालू गैर प्रान्तों से आ रही हैं लेकिन जमीनी हकीकत कुछ और है । बालू क्षेत्रों में रहने वाले लोगों का कहना है कि रात के अंधेरे में बालू का अवैध खनन टीपर व टैक्टर से किया जाता है और उसे ट्रक द्वारा लोडकर ऑनलाइन परमिट के साथ एक नम्बर का बना दिया जाता है ।
सोनभद्र में सबसे ज्यादा डिमांड जुगैल क्षेत्र के बालू की है, वजह जुगैल में खनन माफिया नेटवर्क का जबरदस्त फायदा उठाते हैं । हालांकि सिस्टम में थाने से लेकर वन विभाग तक शामिल हैं लेकिन जब मामला बढ़ जाता है तो कभी-कभार इन्हीं लोगों पर कार्यवाही कर खाना पूर्ति भी कर दिया जाता है ।
ओबरा सर्किल में जुगैल हो या चोपन-डाला, इन क्षेत्रों में अवैध खनन की शिकायत पुलिस कप्तान तक दर्ज है । जिसके बाद एएसपी ने नाम सहित ओबरा सर्किल को कार्यवाही के लिए लिखा था लेकिन मामला आज भी ठंडे बस्ते हैं ।
हालांकि बुधवार को डीआईजी विंध्याचल रेंज के सामने भी अवैध खनन व परिवहन का मामला उठा था। लेकिन उनके जाते ही खेला फिर शुरू हो गया ।
गुरुवार को समाजसेवी सावित्री देवी ने भी अवैध परिवहन का मामला उठाते हुए इसकी शिकायत जिलाधिकारी से भी की है ।

सावित्री देवी ने जिलाधिकारी से शिकायत में बताया कि सोनभद्र में बड़ी संख्या में ट्रकें बिना नम्बर या फिर बदल कर चल रही हैं जिससे न सिर्फ सरकार की छवि खराब हो रही है बल्कि सरकार को प्रतिदिन करोड़ों रुपये का चूना लगा रहे हैं।
सावित्री देवी ने बताया कि कैसे ओवरलोड ट्रकें नम्बर प्लेट पर कालिख पोतकर चल रहे हैं ताकि कोई पकड़ न सके ।

लेकिन बड़ा सवाल तो यह है कि बिना नम्बर की ट्रकें माल लादकर कई थानों से होकर टोल बैरियर तक पहुंचना है ऐसे में वे थाने के लोग क्या कर रहे हैं जहां से यह ट्रक गुजर रही है ।

विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है और अब तक गिट्टी-बालू सस्ता होगा का नारा देने वाली बीजेपी सरकार इस मुद्दे पर कुछ तो खुद की नीतियों से फेल हो गयी और बाकी उनके जिले में तैनात अधिकारियों ने इसका बेड़ा गर्द कर दिया ।
हालांकि इस मुद्दे पर जनप्रतिनिधियों की भूमिका भी उदासीन व गैर जिम्मेदाराना रही है ।

previous arrow
next arrow

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com