Wednesday , October 5 2022

रक्षाबंधन: रेशम की कच्ची सी डोर पर, पक्का रिश्ता

संजीव कुमार पांडेय (संवाददाता)

राजगढ़ । भाई-बहन के प्रेमपूर्वक संबंध से तो आप सभी बखूबी वाकिफ होंगे। भाई-बहन जो बचपन से साथ रहते है, साथ खेलते है और साथ बड़े होते है। इस रिश्ते जैसा प्यार किसी और रिश्ते में नही होता। ये कहा भी जाता है कि एक भाई से अच्छा कोई दोस्त नही होता। एक बहन अपने भाई की जितनी हमदर्द होती है उतना ही एक भाई भी अपने बहन के प्रति होता है। देखा जाए तो दुनिया मे सबसे अच्छा और प्यार रिश्ता भाई-बहन का ही होता है क्योंकि इस रिश्ते में कोई मतलब नहीं होता। हर साल सावन के महीने में रक्षाबंधन का त्योहार मनाया जाता है। लोग कहते है कि भाई-बहन के रिश्तों का ये एक दिन होता है। लेकिन मेरा मानना ये है कि भाई बहन के प्यार भरे रिश्ते के लिए कोई दिन नही होता। इस रिश्ते में तो हर दिन प्यार दिखाई पड़ता है। रक्षा बन्धन के दिन बहने अपने भाइयों को राखी बांधती है। शादी शुदा बहने भी अपने ससुराल से मायके आती है अपने भाई को राखी बांधने के लिए। भाई भी बहनो से राखी बंधवाने के लिए उनके घर जाते है। राखी बंधवाने के बाद हर भाई अपने बहनो को तोहफा देते है। कुछ ऐसी भी बहने होती है जो अपने भाई को राखी खुद के ज़रिये नही बाँध पाती है और उसके लिए उन्हें कुरियर सर्विस का सहारा लेना पड़ता है। एक बहन होने के नाते मैं उस पल, उस लम्हे के दर्द और बोझ को समझ सकती हु। इस तकलीफ को महसूस किया जा सकता है, एक ऐसा दर्द जिसके लिए लफ्ज़ अपने अंदाज़-ए-बयाँ न मिल पाने की मज़बूरी दिखा बैठते है। हम सिर्फ यही दुआ करते है कि भगवान इस दिन को किसी भी बहन के लिए न लाये।
वेैसे तो राखी महज़ रेशम की एक डोर होती है। लेकिन इन रेशम के तारों की कीमत तब बढ़ती है जब एक बहन इसे अपने हाथो में लेती है और उसको अपने हाथों से अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है। राखी जिसमे मामूली से कुछ रेशम के धागे होते है, उसको बांधते वक़्त किया गया वायदा बहुत बड़ा होता है। शायद दुनिया के सारे वायदों से बड़ा। राखी बांधते वक़्त हर भाई अपने बहन को उसकी रक्षा करने का वचन देता है। सिर्फ एक भाई ही नही बल्कि बहन भी अपने भाई से वायदा करती है कि वह अपने भाई का साथ हर सुख में, हर दुख दर्द में देगी। एक बहन की राखी बहुत अनमोल होती है। क्योंकि दुनिया मे हर शय का मोल होता है। मगर एक बहन की मुहब्बत का कोई मोल नही होता है। राखी जो सिर्फ चंद धागो से बनी होती है, लेकिन इन चंद धागो में चमक और खूबसूरती तो भाई-बहन के प्यार भरे रिश्ते से आती है। अगर इस राखी का संबंध इतने पवित्र रिश्ते से न होता तो शायद ये राखी नही चंद मामूली धागा ही कहलाती। इस धागे को मजबूत भी तो (बांधते वक़्त किया गया वायदा) भाई-बहन का रिश्ता ही बनाती है।

previous arrow
next arrow

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com