Monday , October 3 2022

प्रबुद्ध सम्मेलन : क्या यूपी में बसपा तोड़ेगी 32 साल का रिकार्ड ?

आनंद चौबे/अंशु खत्री (संवाददाता)

सोनभद्र । यूपी विधानसभा चुनाव का विगुल बज चुका है । और इस बार का चुनाव सभी पार्टियों के लिये बेहद अहम और प्रतिष्ठा का बनता जा रहा है। जहां एक तरफ़ बीजेपी इस बार भी योगी के चेहरे पर चुनाव लड़ने का मन बनाया है वहीं सपा अखिलेश के नाम पर चुनाव लड़ेगी। लेकिन बसपा ने जिस तरह से ब्राह्मण कार्ड खेला है और हर जनपद में बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा प्रबुद्ध सम्मेलन कर ब्राह्मणों को जोड़ने का काम कर रहे हैं उससे इस बात की चर्चा भी शुरू हो गयी कि क्या बसपा आगामी चुनाव में मुख्यमंत्री का चेहरा भी ब्राह्मण को आगे कर लड़ सकती है । आगे हम आपको बताएंगे कि प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन में शिरकत करने पहुंचे सतीश चंद्र मिश्रा ने क्या जबाब दिया ।

दरअसल बुधवार को बसपा महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा सोनभद्र में प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन में शिरकत करने पहुंचे थे । जहां उनका जोरदार स्वागत किया गया। सम्मेलन को संबोधित करते हुए सतीश चंद्र मिश्रा सपा व भाजपा और जमकर बरसे और बसपा को ब्राह्मणों का हितैषी बताया ।

कार्यक्रम के बाद जब पत्रकारों ने सतीश चंद्र मिश्रा से पूछा कि बसपा चुनाव में ब्राह्मण कार्ड जरूर खेल रही है और ब्राह्मण जैसे प्रबुद्ध वर्ग का सम्मान करने की बात कह रही है लेकिन चुनाव में ब्राह्मण मुख्यमंत्री पर चुप क्यों है? इस सवाल के जबाब पर उन्होंने गोलमोल जबाब देते हुए इतना कहा कि सभी को लेकर चलने वाली पार्टी है और 2022 में मायावती 5वीं बार यूपी की मुख्यमंत्री बनेंगी ।

हालांकि बसपा नेता अशोक चौबे का कहना है कि मायावती पूरे कार्यक्रम और नजर रखी हुई है और आने वाले समय में खुशखबरी मिल सकती है ।

आपको बतादें कि लगभग 32 साल से यूपी में कोई ब्राह्मण मुख्यमंत्री नहीं बना । नारायण दत्त तिवारी के बाद किसी दल ने ब्राह्मण मुख्यमंत्री के नाम पर चुनाव भी नहीं लड़ा । हालांकि इन दिनों हर दल ब्राह्मणों को रिझाने का काम कर रही है और खुद को उनका हितैषी बता रही है।

previous arrow
next arrow

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com