Tuesday , October 4 2022

विद्यालय की जमीन पर अतिक्रमण मामले में ग्रामीणों ने जिलाधिकारी से लगाई न्याय की गुहार

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

एसडीएम के कार्यशैली से नाराज ग्रामीणों ने खोला मोर्चा

सोनभद्र । करमा ब्लाक के अतरौली राजा गाँव के ग्रामीणों ने उप जिलाधिकारी सदर के लापरवाही पूर्ण रवैये से क्षुब्ध होकर प्राथमिक विद्यालय की जमीन पर किये जा रहे अवैध कब्जे से मुक्त कराने के लिए जिलाधिकारी से गुहार लगाई है।

आज ग्रामीणों ने युवक मंगल दल के कार्यवाहक जिलाध्यक्ष मनोज कुमार दीक्षित के नेतृत्व में कलेक्ट्रेट पहुँच जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंप पूरे मामले पर हस्तक्षेप कर तत्काल काम रोकने की माँग की।

वहीं युमंद के कार्यवाहक जिलाध्यक्ष मनोज दीक्षित ने बताया कि “सदर तहसील अंतर्गत प्राथमिक विद्यालय अतरौली राजा गाँव में गाँव के ही एक व्यक्ति स्व0 बलदेव सिंह पटेल ने अपने खतौनी से 9 बिस्वा 6 धुर जमीन विद्यालय के लिए दान दिया गया था। जिसका वर्तमान खाता संख्या 00043 व खसरा संख्या 233 व 234 है लेकिन ग्राम प्रधान व लेखपाल अपनी मिलीभगत से अपने करीबी रामरतन पुत्र स्व0 बरन को लाभ पहुंचाने के लिए विद्यालय की लगभग 2 बिस्वा 6 धुर जमीन को छोड़कर नापी कराई जा रही थी। ग्राम प्रधान व लेखपाल के इस रवैये को देखते हुए युवक मंगल दल के कार्यकर्ताओं व ग्रामीणों ने इसका विरोध किया और इस संबंध में 16 जुलाई को अपर जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा। अपर जिलाधिकारी ने उसी दिन तहसीलदार सदर को पैमाइश कराने के लिए आदेश दिया। तहसीलदार सदर ने तत्काल राजस्व निरीक्षक मान सिंह व लेखपाल अरविन्द सिंह व राजेन्द्र टंडन की एक टीम बनाकर पैमाइश के लिए भेजा गया। लेकिन ग्रामीणों के अनुसार उक्त टीम में लेखपाल राजेन्द्र टण्डन के जगह स्थानीय लेखपाल सुबाष सिंह को भेज दिया गया, जिन पर इस प्रकरण को लेकर पहले से ही आरोप लगा हुआ है। स्थानीय लेखपाल जब भी विद्यालय की जमीन को नापी करने के लिए आते हैं।वे फटे व टेप से सटे हुए नक्शे को लेकर नापी करने आते हैं। नापी वाले दिन स्थानीय लेखपाल सुबाष सिंह ने जांच टीम को प्रभावित कर मनमानी तरीके से स्पार्ट मेमो तैयार किया और ग्रामीणों के बिना सिग्नेचर के स्पार्ट मेमो लेकर चलते बने। उक्त प्रकरण को लेकर ग्रामीणों ने 22 जुलाई को सदर एसडीएम को ज्ञापन सौंपा लेकिन अब तक उक्त जमीन की निष्पक्ष रूप से नापी नहीं हो सकी है।”

ग्रामीणों ने दोषियों के विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। उन्होंने कहा कि न्याय की आखिरी उम्मीद जिलाधिकारी से भी हमें न्याय नहीं मिलता तो हम स्थानीय तौर पर अनसन करने को बाध्य होंगे।

वहीं प्रदेश सरकार के यूथ आइकॉन सौरभ कान्त पति तिवारी ने कहा कि “जहाँ हमारे प्रदेश के मुख्यमंत्री जी लगातार भूमाफियाओं के खिलाफ कार्रवाई कर रहे है वहीं सरकारी विद्यालय की जमीन पर हो रहे कब्जे को हटाने में जब प्रशासन अक्षम हो रहा है तो यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है।”

उक्त अवसर पर अजीत पटेल, श्यामजीत पटेल, आनन्द दीक्षित, सूर्यभान, शिवशंकर पटेल, रामलाल पटेल, विजय बहादुर पटेल, रामप्रसाद पटेल व राजेश पटेल समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

previous arrow
next arrow

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com