Tuesday , October 4 2022

उज्ज्वला योजना पर जनपद मिरर की पड़ताल, गरीबों के धुएं से नहीं महगांई से निकल रहे आंसू

जब नेताओं की जुबान मीठी हो जाय और योजनाओं की झड़ी लग जाय तो समझो चुनाव आ गया…जी हां मंगलवार को यूपी के महोबा से पीएम मोदी ने ‘प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना’ के दूसरे चरण की शुरुआत की। पीएम मोदी को उम्मीद है कि यही उज्ज्वला योजना विधानसभा चुनाव में उजाला लाएगी।

क्योंकि 2017 विधानसभा चुनाव के पहले मोदी ने 1 मई 2016 को यूपी के बलिया से उज्जवला योजना पार्ट वन लॉन्‍च किया था। और इसका लाभ पार्टी को विधानसभा चुनाव में मिला । इस बार भी मोदी उज्ज्वला पार्ट 2 के सहारे बीजेपी की नैया पार लगाना चाहते हैं ।

सोनभद्र के जनप्रतिनिधियों ने भी जिले के पात्रों को गैस चुल्हा व सिलेण्डर वितरण किया । लेकिन जब जनपद मिरर की टीम ने उज्ज्वला योजना पार्ट वन के लाभार्थियों से बात की तो योजना की सच्चाई बाहर आ गई । जिन महिलाओं की आंखों को धुएं से बचाने के लिए यह योजना 2016 में लांच किया गया था, उन्हीं आँखों से अब महगांई के आंसू निकल रहे हैं ।क्योंकि ज्यादातर घरों में सिलेंडर खाली पड़े मिले और खाना लकड़ियों पर बनते दिखे ।

लाभार्थियों का कहना है कि सिर्फ मुफ्त कह कर सरकार सिलेंडर व चुल्हा दे देती है लेकिन जिस तरह से महगांई ने लोगों की कमर तोड़ दी है ऐसे में सिलेंडर भराना सपने जैसा है ।

उज्ज्वला योजना पार्ट 2 में इस बार पीएम मोदी ने प्रवासी मजदूरों पर बड़ा दांव खेला है…
पीएम ने कहा कि उज्ज्वला का लाभ लेने के लिए प्रवासी श्रमिक परिवारों को राशन कार्ड या पते का प्रमाण पत्र लगाने की जरूरत नहीं होगी। इसके लिए स्वघोषणा पत्र ही काफी होगा।

कुल मिलाकर उज्ज्वला को लेकर प्रधानमंत्री का यह दांव कितना सफल होगा यह तो विधानसभा का रिजल्ट बताएगा । क्योंकि जिस तरह से सिलेंडर के दामों में इजाफा हुआ है ऐसे में ग्रामीणों के सामबे सबसे बड़ी चुनौती इसे रिफलिंग करने की होगी ।

previous arrow
next arrow

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com