Saturday , September 24 2022

क्या जीरो टॉलरेंस की सरकार में वापस मिल पायेगा राबर्ट्सगंज नगर का खसरा रजिस्टर ?

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । जीरो टॉलरेंस की सरकार के लगभग साढ़े चार साल बीत गए लेकिन योगी सरकार के तेजतर्राक पुलिस सोनभद्र के एकमात्र नगर पालिका से गायब खसरा रजिस्टर का सुराग तीन साल बाद भी नहीं लगा सकी। या यूं कहें जैसे पुलिस इस केस को भूल गयी हो। राबर्ट्सगंज नगर में चल रहे कई निर्माणकार्य इन दिनों विवादों में आ गए हैं लेकिन खसरा रजिस्टर न होने की वजह से सुलझ नहीं पा रहे। अब लोग पूछने लगे हैं कि क्या जीरो टॉलरेंस की सरकार में वापस मिल पायेगा रावर्ट्सगंज नगर का खसरा रजिस्टर?

मजे की बात यह है कि खसरा रजिस्टर गायब होने के बाद से आज तक न किसी के नाम से मामला दर्ज हुआ, न पूछताछ हुआ। ईओ व चेयरमैन यह कह कर पल्ला झाड़ लेते हैं कि मामला पुलिस में हैं और पुलिस की कार्यप्रणाली लोगों को समझ में नहीं आ रही।

बताते चलें कि नगर पालिका कार्यालय के खसरा रजिस्टर में नगर क्षेत्र में कुल कितनी जमीन है, कहां-कहां है? किस जमीन का कौन सा खसरा नंबर है व किसके हिस्से में है, किसको-किसने कब जमीन बेचा आदि मामलों का लेखा-जोखा होता है। वर्ष 1940 में नगर पालिका क्षेत्र में सर्वे कराकर खसरा रजिस्टर बनाया गया था। जब वर्ष 2018 में नगर पालिका राबर्ट्सगंज से खसरा रजिस्टर गायब होने का मामला सामने आया तो नगर पालिका कर्मियों में हड़कंप मच गया। कई माह तक मामले को दबाने का प्रयास किया गया लेकिन विभिन्न दलों ने लगातार मामले में मुकदमा दर्ज कराने का दबाव बनाए रखा। उस समय के डीएम के निर्देेश पर नगर पालिका के तत्कालीन ईओ ने सदर कोतवाली में अज्ञात के खिलाफ खसरा रजिस्टर गायब करने का मुकदमा पंजीकृत कराया लेकिन तीन वर्ष से अधिक का समय बीत जाने के बाद भी मामले का अब तक खुलासा नहीं हो पाया है।

[psac_post_slider show_date="false" show_author="false" show_comments="false" show_category="false" sliderheight="400" limit="5" category="124"]

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com