Monday , October 3 2022

कृषि और राजस्व विभाग की संयुक्त छापेमारी से उर्वरक विक्रेताओं में हड़कम्प

आनन्द कुमार चौबे (संवाददाता)

छापेमारी के दौरान 31 दुकानों का किया गया निरीक्षण

● कमी मिलने पर टीम ने एक दुकान को किया निलंबित

● 9 दुकानदारों को कमियों को दूर करने का अवसर देते हुए दी गयी नोटिस

सोनभद्र । धान की रोपाई के चलते खाद व उर्वरक की मांग तेज हो गई है। किसानों को उर्वरक के लिए मशक्कत झेलनी पड़ रही है। कुछ जगहों पर निर्धारित रेट से ज्यादा तो कहीं मिश्रित उर्वरक की बिक्री की शिकायतें मिल रही थीं। जिस पर जिलाधिकारी के निर्देश के क्रम में कृषि एवं राजस्व विभाग के अधिकारियों की संयुक्त टीम ने जिले के विभिन्न क्षेत्रों में स्थित कुल 31 दुकानों का औचक निरीक्षण किया और 32 नमूने भी एकत्र किए। वहीं स्टाक रजिस्टर व स्टॉक आदि का मिलान न होने पर एक दुकान को निलंबित कर दिया गया साथ ही 9 दुकानदारों को कमियों को दूर करने का अवसर देते हुए नोटिस जारी की गई है। इस अभियान से उर्वरक व्यवसायियों में हड़कम्प की स्थिति रही। छापेमारी अभियान की जानकारी मिलते ही बहुत से दुकानदार शटर गिराकर भाग खड़े हुए।

अभियान के क्रम में तहसील घोरावल में जिला कृषि अधिकारी डॉ0 हरि कृष्ण मिश्रा एवं उप जिलाधिकारी घोरावल के नेतृत्व में 13 दुकानों से 6 नमूने संग्रहित किये गए तथा 3 दुकानदारों को चेतावनी जारी की गयी। जबकि रॉबर्ट्सगंज तहसील में 7 दुकानों से 23 नमूने लिये गये तथा 2 दुकानों को चेतावनी जारी की गयी। इसी प्रकार तहसील दुद्धी में 11 दुकानों से 3 नमूने संग्रहित किये गये।

जिला कृषि अधिकारी हरि कृष्ण मिश्रा ने बताया कि “खरीफ मौसम में धान की रोपाई एवं अन्य फसलों की बुआई का समय चल रहा है, जिसके दृष्टिगत कृषकों को निर्धारित दरों पर गुणवत्तापूर्ण उर्वरकों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने हेतु आकस्मिक छापामारी अभियान चलाया गया। इस दौरान जिले के कुल 31 दुकानों की जाँच की गई और उर्वरक नमूने संग्रहित किये गए। इस दौरान एक दुकान को निलंबित करते हुए अन्य 9 दुकानों को चेतावनी दी गयी है।”

जिला कृषि अधिकारी ने बताया कि “निर्धारित दामों पर उर्वरकों को उपलब्ध कराने हेतु आगामी दिनों में और सघन छापामारी अभियान चलाया जायेगा एवं दोषी उर्वरक व्यापारियों के विरूद्ध नियमानुसार उर्वरक नियंत्रण आदेश 1985 एवं आवश्यक वस्तु अधिनियम-1955 की सुसंगत धाराओं के अन्तर्गत विधिक कार्यवाही की जायेगी।”

previous arrow
next arrow

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com