Sunday , October 2 2022

जातिवार जनगणना कराए जाने की उठी मांग, कांग्रेसियों ने राष्ट्रपति के नाम सौंपा ज्ञापन

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

सोनभद्र । जातिवार जनगणना कराए जाने की मांग एक बार फिर जोर पकड़ने लगी है। शहर कांग्रेस कमेटी पिछड़ा वर्ग की ओर से इस मांग को उठाया गया है। आज शहर कांग्रेस कमेटी के पिछड़ा विभाग के जिलाध्यक्ष शीतला सिंह पटेल के नेतृत्व में कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने डीएम से मुलाकात की और महामहिम राष्ट्रपति महोदय के नाम ज्ञापन सौंपा। इस ज्ञापन के माध्यम से कांग्रेस पिछड़ा वर्ग के अध्यक्ष ने राष्ट्रपति से जनगणना 2021 को जातिवार कराए जाने की मांग की।

कांग्रेस पिछड़ा वर्ग के जिलाध्यक्ष शीतल सिंह पटेल ने ज्ञापन के माध्यम से बताया कि “भारत में एक बड़ी आबादी ओबीसी वर्ग की है, जिन्हें आज की जनसंख्या के अनुपात में देश के सभी संस्थाओं और संसाधनों में हिस्सेदारी नहीं मिल पा रही है। दूसरा ओर पिछड़ा वर्ग आयोग व मंडल कमीशन ने रिपोर्ट की अपनी प्रस्तावना में ही लिखा था कि अगली जनगणना से तमाम जातियों के आंकड़े जुटा लिए जाएं, जिससे ओबीसी के आर्थिक और सामाजिक उत्थान के लिए नीतियां बनाने में जरूरी आंकड़े उपलब्ध हो सकें।”

यूपीसीसी ओबीसी सचिव सेतराम केशरी ने कहा कि “सरकार से जातिवार जनगणना कराए जाने की मांग काफी समय से की जा रही है लेकिन सरकार इस पर कोई ध्यान नहीं दे रही है जिसके कारण पिछड़ा वर्ग को इसका उचित लाभ नहीं मिल पा रहा है। आज महामहिम राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन देकर एक बार फिर इस मांग को उठाया गया है। अगर इस ज्ञापन पर भी कोई कार्यवाही नहीं हुई तो फिर कांग्रेसी आंदोलन करने को मजबूर होगी।”

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेश सचिव/प्रभारी सोनभद्र द्वारिका पाल ने कहा कि “जनगणना 2021 का जातिगत कराना चार प्रमुख कारणों से भी ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है, जिसमें कई राज्यों में कुल आरक्षण की सीमा बढ़ाने की मांग और जरूरत, कई जातियों का अन्य पिछड़े वर्ग में शामिल होने का आंदोलन, पिछड़ी जातियों के आरक्षण पर न्याय पालिका द्वारा वास्तविक जनसंख्या के आंकड़ों की मांग को लेकर 4 सूत्री ज्ञापन जिला अधिकारी सोनभद्र को सौंपा गया है।”

इस दौरान सूर्य प्रताप मौर्य, अमरेश देव पांडेय, विनयकांत चतुर्वेदी, विमला देवी, संगीता श्रीवास्तव, कौशलेस पाठक, धीरज पांडेय, संदीप गुप्ता, जितेंद्र पासवान, नामवर कुशवाहा व अन्य कांग्रेस कार्यकर्ता मौजूद रहे।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com