Monday , September 26 2022

सातवाँ दिन-धरना स्थल पर श्रमिकों से मिलने पहुंचे विधान परिषद सदस्य, सौंपा ज्ञापन

कृपाशंकर पांडे (संवाददाता)

ओबरा। बकाया वेतन के भुगतान की मांग को लेकर श्रमिकों द्वारा दिए जा रहे धरने के सातवें दिन भी दुसान कम्पनी द्वारा श्रमिकों के चार माह के बकाया वेतन का भुगतान नही किया गया।भारतीय संविदा श्रमिक संगठन के महामंत्री नागेन्द्र प्रताप चौहान के नेतृत्व में कम्पनी के विरोध में जम कर नारे बाजी की गयी।बकाया वेतन की मांग को लेकर दुसान कम्पनी ओबरा सी परियोजना के गेट पर धरना दे रहे श्रमिकों से मिलने सदस्य विधान परिषद श्री आशुतोष सिन्हा धरना स्थल पर आये।संगठन के महामंत्री नागेन्द्र प्रताप चौहान ने उन्हें ज्ञापन देकर श्रमिकों का पक्ष रखते हुए उनसे कहा कि,दुसान कम्पनी लूट पर अमादा हो चुकी है।श्रमिकों के चार माह का बकाया वेतन उन्हें ना देकर हड़प करना चाहती,कम्पनी के खिलाफ आर सी जारी होने के बावजूद प्रशासन अभी तक दुसान कम्पनी से उसकी वसूली नहीं करा पाया,कम्पनियों से अपने आपसी विवाद में श्रमिकों को ब्लैक लिस्ट कर के मजदूरों के हाथों को काट रही है ।दुसान कम्पनी,ओबरा सी परियोजना में दुसान कम्पनी द्वारा श्रमिकों से बंधुआ मजदूरों की तरह कार्य लिया जा रहा है।इसके पश्चात सदस्य विधान परिषद श्री आशुतोष सिन्हा कहा कि,मामला मेरे संज्ञान में आ चूका है।

समाजवादी पार्टी मजदूर के हक़ और न्याय के लिए उनके साथ खड़ा है,सड़क से लेकर सदन तक उनके अधिकार की लडाई लड़ी जाएगी।सदन के आगामी सत्र में ओबरा सी परियोजना में दुसान कम्पनी द्वारा किये जा रहे श्रमिकों के शोषण के खिलाफ मेरे द्वारा यह मुद्दा प्रमुखता से उठाया जायेगा।मा० अखिलेश यादव की सरकार में गरीब मजदूरों लिए किये गए कार्य को जनता आज याद कर रही है,आज के समय में कम्पनी प्रदेश की सरकार चला रही है,जहाँ श्रमिकों को अपने बकाया वेतन को पाने के लिए धरना प्रदर्शन भूख हड़ताल करना पड़ता हो ऐसी सरकार को सत्ता में रहने का कोई अधिकार नहीं है,ओबरा विधानसभा प्रभारी श्री रमेश सिंह यादव ने कहा कि,बकाया वेतन को पाने के लिए श्रमिकों धरना प्रदर्शन करना पड़ रहा है। यह बड़े दुर्भाग्य की बात है,मेरे स्तर से यह प्रयास किया जायेगा की धरना दे रहे श्रमिकों के बकाया वेतन का भुगतान दुसान कम्पनी से कराया जाए एवं धरना दे रहे श्रमिकों की हर सम्भव मदद की जाएगी।नगर अध्यक्ष श्री बिपिन सिंह कश्यप ने कहा कि,जो कम्पनी श्रमिकों को उनके बकाया वेतन का भगतान नहीं कर सकती उसे कार्य कराने का कोई अधिकार नहीं है।प्रशासन से यह मांग की जाएगी की ऐसी कम्पनियों की नकेल कसतें हुए उनके विरुद्ध कठोर कार्यवाही की जाये।इस दौरान मौके पर प्रमुख रूप से रमेश वर्मा,अनिल यादव ,बिपिन सिंह कश्यप ,मन्नू पाण्डेय,सतेन्द्र मोहन ओझा,ज्युतेश,अजित कनौजिया,शेरा पटेल,नागेन्द्र प्रताप चौहान,नागेन्द्र सिंह,कलाधर तिवारी,मुस्तफा रजा सिद्दीकी,राम सजीवन,सुशिल मानव,सादाब अहमद,अखिलेश जिज्ञासु,हेम बहादुर थापा,सचिन, एवं धरना दे रहें श्रमिक मौजूद रहे।

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com