संसद के बाहर कृषि कानून के खिलाफ कांग्रेस का प्रदर्शन, काला कानून रद्द करने की मांग

आज संसद के मानसून सत्र का तीसरा दिन है। लेकिन विपक्ष का हंगामा आज भी जारी है। कोरोना वायरस हैंडलिंग को लेकर विपक्ष लगातार सरकार पर आक्रमक है। इसके साथ ही साथ पेगासस सॉफ्टवेयर का मामला भी सरकार की मुश्किलें बढ़ा रहा है। किसानों का मुद्दा भी चरम पर है। आज किसान जंतर-मंतर पहुंच रहे हैं। ऐसे में संसद में आज कृषि कानूनों के खिलाफ भी गूंज सुनाई देगी। कांग्रेस ने लोकसभा में स्थगन प्रस्ताव दिया है जबकि राज्यसभा 12:00 बजे तक के लिए स्थगित हो गया है। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कोर ग्रुप की बैठक कर रहे हैं। इस बैठक में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, गृह मंत्री अमित शाह, कानून मंत्री किरेन रिजिजू , वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जैसे वरिष्ठ नेता मौजूद है। विपक्ष के हंगामे के कारण लोकसभा भी 12:00 बजे तक के लिए स्थगित हो गया है।

दूसरी ओर किसानों के मुद्दे को लेकर पंजाब कांग्रेस के सांसद संसद भवन के बाहर प्रदर्शन कर रहे हैं। राहुल गांधी के अलावा लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी, लोकसभा सदस्य मनीष तिवारी, गौरव गोगोई, रवनीत बिट्टू, राज्यसभा सदस्य प्रताप सिंह बाजवा और कई अन्य सांसद इस धरने में शामिल हुए। कांग्रेस सांसदों ने ‘काले कानून वापस लो’ और ‘प्रधानमंत्री न्याय करो’ के नारे लगाए। मुख्य विपक्षी पार्टी के सांसदो ने संसद भवन परिसर में यह धरना उस वक्त दिया जब मानसूत्र के दौरान केन्द्र के तीन कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठन जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करने की तैयारी में हैं। आपको बता दें कि अब तक 3 दिनों में लोकसभा का एक भी सत्र सही ढंग से नहीं चल पाया है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!