ओलंपिक में भाग लेने वाले भारतीय एथलीटों से पीएम मोदी ने की बात, कहा- पूरा भारत खिलाड़ियों के साथ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने वाले भारतीय एथलीटों की टुकड़ी के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से वार्ता करते हुए खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाया। खिलाड़ियों से बात करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि पूरा भारत खिलाड़ियों के साथ है और अपेक्षाओं के बोझ तले दबने की जरूरत नहीं है। पीएम मोदी ने कहा कि जापान में जमकर खेलें सभी खिलाड़ी। टोक्यो ओलंपिक में जाने वाले खिलाड़ियों से बात करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना ने बहुत कुछ बदल दिया, ओलंपिक का साल बदल गया, आपकी तैयारियों का तरीका बदल गया। टोक्यो में आपको एक अलग तरह का माहौल मिलने वाला है। पीएम मोदी के साथ संवाद में शामिल होने वाले खिलाड़ियों में एमसी मैरीकॉम (मुक्केबाजी), सानिया मिर्जा (टेनिस), तीरंदाज दीपिका कुमारी और प्रवीण जाधव के अलावा जैवलीन थ्रोअर नीरज चोपड़ा शामिल जैसे चर्चित नाम हैं। इनके अलावा दुती चंद (एथलेटिक्स), आशीष कुमार (कुश्ती), पीवी सिंधु (बैडमिंटन), एलावेनिल वलारिवन (शूटर), सौरभ चौधरी (शूटर), शरथ कमल (टेबल टेनिस), मनिका बत्रा (टेबल टेनिस), विनेश फोगट (कुश्ती), साजन प्रकाश (तैराकी) और मनप्रीत सिंह (हॉकी) शामिल हैं।

उन्होंने खिलाड़ियों के जीवन के कई यादगार प्रसंगों का जिक्र किया और उनके अनुभवों के बारे में भी पूछा। उन्होंने खिलाड़ियों के सफर में उनके माता पिता के योगदान का भी उल्लेख किया। उन्होंने खिलाड़ियों से कहा ,‘‘आपको अपेक्षाओं के बोझ तले दबना नहीं है। अपना शत प्रतिशत देना है। पूरे देश की शुभकामनाएं आपके साथ है। मुझे यकीन है कि आप तोक्यो में देश को गौरवान्वित करेंगे।’’ प्रधानमंत्री की खिलाड़ियों से बातचीत में हंसी मजाक का भी पुट था, मसलन उन्होंने पहलवान विनेश फोगाट से पूछा कि क्या उनके जीवन पर भी फिल्म बन रही है। फोगाट बहनों पर ‘दंगल’ फिल्म बनी थी जिसमें आमिर खान ने उनके पिता महावीर फोगाट की भूमिका निभाई थी। मोदी ने विनेश के ताऊ महावीर से कहा ,‘‘ जब कोई फिट या तंदुरुस्त होता है तो हम पूछते हैं कि कौन सी चक्की का आटा खाते हो तो फोगाट परिवार अपनी बेटियों को कौन सी चक्की का आटा खिलाता है।’’ उन्होंने रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता बैडमिंटन खिलाड़ी पी वी सिंधु से उनकी खुराक के बारे में बात करते हुए कहा कि रियो खेलों से पहले कोच पुलेला गोपीचंद ने उनकी आइसक्रीम छुड़वा दी थी और मोबाइल फोन भी रख लिया था लेकिन तोक्यो से लौटने के बाद वह खुद सिंधु के साथ आइसक्रीम खाएंगे। ओलंपिक से ठीक पहले अपने पिता को खोने वाले मुक्केबाज आशीष कुमार को चैम्पियन क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा ,‘‘ तेंदुलकर भी एक समय बहुत महत्वपूर्ण टूर्नामेंट खेल रहे थे जब उनके पिता का निधन हो गया। उन्होंने अपने खेल के माध्यम से पिता को श्रद्धांजलि दी। आपने भी वैसा ही उदाहरण प्रस्तुत किया है। एक खिलाड़ी के तौर पर आप विजेता हैं ही , साथ ही एक व्यक्ति के तौर पर भी आपने विषमताओं पर विजय प्राप्त की है।’’ मोदी ने खिलाड़ियों का तनाव कम करने की कवायद में कहा ,‘‘कोरोना ने बहुत कुछ बदल दिया है। ओलंपिक का साल और आपकी तैयारियों का तरीका बदल गया। तोक्यो में भी आपको अलग तरह का माहौल मिलेगा। देश को इस बातचीत से पता चला कि इस कठिन समय में भी देश के लिये आपने कितनी मेहनत की है। देश आपको चीयर कर रहा है। 135 करोड़ भारतीयों की शुभकामनाएं खेल के मैदान में उतरने से पहले आप सभी के लिये देश का आशीर्वाद है।’’ प्रधानमंत्री ने कहा ,‘‘ आपके साथ देश भर की भावनाएं जुड़ी हुई है। आप सभी को एक साथ देखने पर कुछ चीजें कॉमन नजर आ रही है। आप सभी बोल्ड , कांफिडेंट और पॉजिटिव हैं। आप में डिसिप्लिन, डेडिकेशन और डिटरमिनेशन है। यही खूबी नये भारत की भी है और आप सभी उसके प्रतीक हैं।’’ उन्होंने आगे कहा ,‘‘ आप देश के लिये पसीना बहाते हैं। देश का झंडा लेकर जाते हैं तो यह देश का दायित्व है कि आपके साथ डटकर खड़ा रहे।आपकी ऊर्जा को देखकर कोई संदेह नहीं बचता कि वह दिन दूर नहीं जब जीतना ही न्यू इंडिया की आदत बन जायेगी। अभी तो ये शुरुआत है। आप तोक्यो जाकर देश का परचम लहरायेंगे तो पूरी दुनिया देखेगी।’’ प्रधानमंत्री ने सिंधु (बैडमिंटन) , नीरज चोपड़ा (भाला फेंक) सानिया मिर्जा (टेनिस), एम सी मैरीकॉम (मुक्केबाजी) , सौरभ चौधरी और इलावेनिल वालारिवान (निशानेबाजी), दुती चंद (एथलेटिक्स), मनप्रीत सिंह (हॉकी), विनेश फोगाट (कुश्ती) , साजन प्रकाश (तैराकी) , दीपिका कुमारी और प्रवीण जाधव (तीरंदाजी), आशीष कुमार (मुक्केबाजी) , मनिका बत्रा और अचंता शरत कमल (टेबल टेनिस) से बात की। इस बातचीत में खेल मंत्री अनुराग ठाकुर , खेल राज्य मंत्री निसिथ प्रमाणिक, पूर्व खेल मंत्री किरेन रीजीजू, आईओए अध्यक्ष नरिंदर बत्रा के अलावा कई खिलाड़ियों के माता पिता भी मौजूद थे। एक दिहाड़ी मजदूर के बेटे तीरंदाज प्रवीण कुमार से बातचीत में उन्होंने कहा ,‘‘ जमीनी स्तर पर प्रतिभाओं का चयन सही हो तो देश की प्रतिभा क्या नहीं कर सकती, यह हमारे खिलाड़ियों ने दिखाया है।’’ उन्होंने प्रवीण के पिता से मराठी में बात करते हुए कहा ,‘‘ कस काय (आप कैसे हैं) प्रकृति बरी आहे ना (तबीयत ठीक है ना) ’’। दुनिया की नंबर एक तीरंदाज और हाल ही में पेरिस में विश्व कप में स्वर्ण पदक जीतने वाली दीपिका कुमारी से मोदी ने पूछा कि वह अपेक्षाओं के दबाव और अपने प्रदर्शन के बीच संतुलन कैसे बनाती है, इस पर दीपिका ने कहा कि वह पूरा फोकस प्रदर्शन पर रखती है। प्रधानमंत्री ने कहा ,‘‘ आम खाने के अपने शौक के कारण आप तीरंदाज बनी और पेरिस में विश्व कप में स्वर्ण पदक के साथ दुनिया की नंबर एक तीरंदाज भी बन गई। आपकी यह यात्रा आम से शुरू होकर खास बन गई।’’ उन्होंने कुश्ती में पदक उम्मीद विनेश फोगाट से पूछा कि परिवार की ख्याति के कारण अपेक्षाओं का बोझ होगा, उससे कैसे निबटती हैं। इस पर विनेश ने कहा ,‘‘ उम्मीदें जरूरी है जो अच्छे प्रदर्शन के लिये प्रेरित करती हैं। उन्होंने कहा ,‘अपेक्षाओं का दबाव नहीं है। अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करेंगे। खिलाड़ियों को मानसिक रूप से मजबूत रहना होता है। परिवार की भूमिका अहम रहती है और हमेशा परिवार का साथ मिला। ’’ भारतीय हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह से बातचीत में उन्होंने कहा ,‘‘ भारत ने हॉकी में ओलंपिक में सबसे ज्यादा पदक जीते हैं और इस समय मुझे मेजर ध्यानचंद, केडी सिंह बाबू और मोहम्मद शाहिद जैसे महान खिलाड़ियों की याद आ रही है। उम्मीद है कि भारतीय टीम सफलता के उस सिलसिले को दोहरायेगी।’’’ महान मुक्केबाज मैरीकॉम से उन्होंने पूछा कि उनका पसंदीदा खिलाड़ी कौन है तो मैरीकॉम ने मोहम्मद अली का नाम लिया। उन्होंने मैरीकॉम से यह भी पूछा कि कोरोना के बीच परिवार और अपने खेल में संतुलन कैसे बनाती हैं। अहमदाबाद में पली बढी निशानेबाज इलावेनिल से उन्होंने गुजराती में बात की। मोदी ने उनके कैरियर से शुरुआती दिनों का जिक्र किया जब वह मणिनगर में थी जहां से मोदी विधायक थे। प्रधानमंत्री ने निशानेबाज सौरभ चौधरी से एकाग्रता बढाने के लिये योग के महत्व के बारे में बात की । वहीं टेनिस स्टार सानिया मिर्जा से टेनिस की बढ़ती लोकप्रियता और इसमें उनकी भूमिका के बारे में चर्चा की।

प्रधानमंत्री ने हाल में तोक्यो-2020 में भारतीय खिलाड़ियों की सुविधाओं के लिए की जाने वाली तैयारियों का भी जायजा लिया था। उन्होंने अपने रेडियो कार्यक्रम मन की बात में भी कुछ एथलीट की प्रेरणात्मक यात्राओं का उल्लेख किया था। साथ ही देशवासियों से आगे आकर ओलंपिक में हिस्सा लेने जा रहे खिलाड़ियों का तहेदिल से समर्थन करने का आह्वान किया था। पीएमओ ने कहा कि 18 खेलों के 126 एथलीट भारत की तरफ से तोक्यो जाएंगे। यह भारत की तरफ से किसी भी ओलंपिक में भाग लेने वाले एथलीटों की अब तक की सबसे अधिक संख्या है।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!