जिंदगी की दौड़ हार गए फ्लाइंग सिख, 91 साल की उम्र में ली अंतिम सांस

महीने भर कोरोना से जूझने के बाद फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह जिंदगी की जंग हार गए हैं । इसी हफ्ते उनकी पत्नी निर्मल मिल्खा सिंह का देहांत भी कोरोना की वजह से हो गया था, मिल्खा सिंह ने 91वीं साल में अपनी अंतिम सांस ली है वहीं निर्मल मिल्खा सिंह 85 वर्ष की थीं ।

बीते दिनों ही मिल्खा सिंह कोरोना नेगेटिव हुए थे, लेकिन अचानक से उनकी तबीयत नाजुक होने लगी इसके बाद उन्हें चंडीगढ़ के PGI अस्पताल में भर्ती किया गया था । जहां उनकी मौत हो गई है ।

इसी हफ्ते पत्नी की मौत हो जाने के बाद वे मिल्खा सिंह अपनी पत्नी के दाह संस्कार में भी शामिल नहीं हो सके थे क्योंकि वे खुद भी आईसीयू में भर्ती थे ।

महान धावक मिल्खा सिंह के निधन पर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी दुःख जताया है । ट्विटर पर अपना दुःख व्यक्त करते हुए PM नरेंद्र मोदी ने कहा है ”हमने एक महान खिलाड़ी खो दिया है । जिन्होंने देश की कल्पना पर कब्जा किया, असंख्य भारतीयों के दिलों में उनके लिए खास जगह थी । उनके व्यक्तित्व ने उन्हें लाखों लोगों का चहेता बना दिया । उनके निधन से दुखी हूं ।”

मिल्खा सिंह के निधन पर मुख्यमंत्री योगी ने गहरा दुख जताया है, कहा कि – देश उनके महान योगदान को कभी भूल नहीं सकता।

आपको बता दें कि फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह साल 1960 में हुए रोम ओलंपिक की 400 मीटर दौड़ के फाइनल मैच में चौथे स्थान पर रहे थे ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!