पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग की हुई तेज,पत्रकार संगठनों ने राज्यपाल को भेजा ज्ञापन

राजेश गुप्ता (जिला संवाददाता)

पीलीभीत। पत्रकार सुरक्षा कानून बनाकर उसे लागू करने की मांग को लेकर गुरुवार को ऑल इंडियन प्रेस जर्नलिस्ट एसोसिएशन एवं प्रेस क्लब पीलीभीत द्वारा संयुक्त रूप से राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन नगर मजिस्ट्रेट को सौप गया।
प्रेस क्लब पीलीभीत के जिलाध्यक्ष संदीप सिंह एवं ऐपजा के जिलाध्यक्ष विकास दीक्षित के नेतृत्व में दिये गए इस ज्ञापन के माध्यम से मांग की गई है कि एक तरफ जहां पत्रकारिता को लोकतंत्र के चौथे स्तंभ का प्रतीक माना जाता है वहीं दूसरी तरफ आए दिन पत्रकारों को विभिन्न प्रकार से उत्पीड़ित किया जाता है।पत्रकारों पर हो रहे हमलों,दमनकारी घटनाओं और पत्रकारों की हत्या से पत्रकारों की स्वतंत्रता व सुरक्षा खतरे में पड़ गई है। पत्रकारों द्वारा लम्बे समय से इस विषय में की जा रही मांग के बाद भी राज्य और केंद्र सरकार पत्रकार सुरक्षा कानून लागू नहीं कर रही हैं।

प्रदेश में पत्रकारों की हत्याएं,झूठे मुकदमे और हमले के दो दर्जन से अधिक मामले पिछले पांच वर्षों में सामने आए हैं। प्रदेश में अब तक जिन पत्रकारों की हत्याएं हुई हैं उन सभी मामलों में अधिकतर आरोपी न्यायालय से जमानत पाने में सफल रहे हैं।ऐसे में प्रदेश में मीडिया के बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की रक्षा पत्रकार सुरक्षा कानून के बिना संभव नहीं है।प्रदेश में लगातार पत्रकारों की हत्याएं और बढ़ते हमलों के मद्देनजर छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से लागू पत्रकार सुरक्षा कानून की तर्ज पर प्रेस क्लब पीलीभीत तथा ऑल इण्डियन प्रेस जर्नलिस्ट एसोसियेशन उत्तर प्रदेश में भी पत्रकारों को भयमुक्त वातावरण देने के लिए पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करने की मांग करते हैं। साथ ही पत्रकारों के लिए स्वास्थ बीमा व पत्रकार पेंशन योजना को लागू करने की भी मांग करता है।जब तक पत्रकार सुरक्षा कानून का प्रारूप तैयार नहीं हो जाता,तब तक प्रदेश सरकार की ओर से मीडिया कर्मियों की सुरक्षा के लिए एक राज्य स्तरीय समिति का गठन किया जाए।उक्त कमेटी मीडिया कर्मियों के उत्पीड़न, धमकी व हिंसा की शिकायतों या मीडिया कर्मियों पर ठोके गए अनुचित मुकदमों और गिरफ्तारियां से संबंधित मामले की सुनवाई 72 घंटे के अंदर करे।समिति में पुलिस कप्तान व पुलिस महानिदेशक रैंक के एक पदाधिकारी भी शामिल हों।समिति में तीन मीडियाकर्मी जिन्हें कम से कम 20 वर्षों की पत्रकारिता का अनुभव हो और उनमें से कम से कम एक महिला पत्रकार शामिल किए जाएं। मीडियाकर्मी इस समिति के सदस्य के रूप में केवल दो वर्षों के लिए नियुक्त हों।ज्ञापन देने वालों में वरिष्ठ पत्रकार ऐपजा प्रदेश अध्यक्ष नसीम खान, मंडल अध्यक्ष नीरज राज सक्सेना, मंडल संगठन मंत्री अनुज सक्सेना, ऐपजा जिला संरक्षक एवं प्रेस क्लब जिला महामंत्री साकेत सक्सेना,ऐपजा सह संगठन मंत्री मुकेश कुमार,रिंटू वर्मा,सौरभ,अदनान खान,सुभम मिश्रा,प्रांजल गुप्ता आदि मौजूद रहे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!