सगा साला ही निकला बहनोई का हत्यारा

फ़ैयाज़ खान मिस्बाही(ब्यूरो)

ग़ाज़ीपुर।बहरियाबाद थाना क्षेत्र के चकफरीद स्थित ससुराल में रहने वाले पशु व्यवसायी कलाम की हत्या उसके साले मुस्तफा कुरैशी और उसके पुत्र अरमान कुरैशी ने गला दबा कर की थी। इसका खुलासा करते हुए पुलिस ने बुधवार को आरोपी पिता-पुत्र का चालान करते हुए न्यायालय में पेश किया, जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया। कलाम की हत्या आयेदिन नशे की हालत में घर आकर गालीगलौज, झगड़ा झंझट करने और पैसे के चक्कर में की गई। कासिमाबाद थाना क्षेत्र के बहादुरगंज का मूल निवासी कलाम कुरैशी की बीते शुक्रवार को बहरियाबाद थाना क्षेत्र के चकफरीद कुटिया के कब्रिस्तान की झाड़ियों में जंगली पेड़ से शव लटका मिला था। वह चकफरीद निवासी मुस्तफा कुरैशी की गूंगी बहन आसमा के साथ शादी करके यहीं ससुराल में रहता था। संदिग्ध परिस्थितियों में जमीन से महज ढाई-तीन फुट उंचाई से लटकती मिली लाश को देखने से ही प्रतीत हो रहा था कि यह आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या का मामला है। इस मामले में बहरियाबाद पुलिस ने मृतक के साला मुस्तफा से तहरीर लेकर इसे आत्महत्या करार दे दिया। जबकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला घोंटने की बात का खुलासा हुआ था। इसके बाद बहादुरगंज से आये मृतक के भाई इस्लाम कुरैशी ने तहरीर देकर हत्या का केस दर्ज कराया था। जांच पड़ताल के बाद पुलिस ने मामले का खुलासा किया। थानाध्यक्ष संजय कुमार मिश्र ने बताया कि मृतक कलाम का साला मुस्तफा कुरैशी और उसके पुत्र अरमान कुरैशी ने ही गला दबाकर उसकी हत्या की थी। इसके बाद शव को पेड़ से लटका कर आत्महत्या का रूप देने का प्रयास किया था। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर चालान भेजते हुए कोर्ट में प्रस्तुत किया गया, जहां से जेल भेज दिए गए।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!