एडिशनल एसपी ने खनन माफियाओं की जारी कर दी सूची, मगर क्षेत्रीय पुलिस कर्मी सबूत जुटाने में जुटे

घनश्याम पांडेय/कृपा शंकर पांडेय (संवाददाता)

एडिशनल एसपी के वायरल पत्र ने भले ही विभाग में व खनन क्षेत्र में हड़कम्प मचा दिया हो । लेकिन एडिशनल एसपी को पत्र लिखे लगभग 15 दिन बीत गए लेकिन आज तक एक भी खनन माफिया सलाखों के पीछे नहीं पहुंच सके । सूत्रों की माने तो एडिशनल के पत्र ने खनन माफियाओं को वरदान दे दिया । जहां एक तरफ खनन माफियाओं को यह पता चल गया कि वे पुलिस के टारगेट पर हैं, तो उन्होंने धंधा ही बन्द कर दिया । वहीं सर्किल पुलिस को भी यह जानकारी हो गयी कि उनके क्षेत्र पर अधिकारियों की पैनी निगाह है तो वे भी सतर्क हो गए ।

बताया जा रहा है कि एडिशनल एसपी द्वारा लिखे गए पत्र में कई खनन माफियाओं के नाम उजागर हैं । ऐसे में स्थानीय पुलिस अब उन खनन माफियाओं को रंगेहाथ बालू खनन करते पकड़ने का इंतजार कर रही है ।

जबकि पत्र में साफ लिखा है कि कार्यवाही के लिए पुलिस अधीक्षक का निर्देश है । वावजूद इसके स्थानीय पुलिस इसे नजरअंदाज कर दी ।

तो ऐसे में क्या माना जाय कि जिस अधिकारी के आदेश पर वे अमुक थाना क्षेत्र में तैनात हैं अब उन्हीं की बातों को नजरअंदाज किया जा रहा है ।
तो क्या अब यह मान लिया जाय कि थाना स्तर पर तैनात पुलिस कर्मियों का सम्बंध अधिकारी से ज्यादा खनन माफियाओं से हो चला है ।

या फिर यह मान लिया जाय कि एडिशनल एसपी द्वारा बिना किसी तथ्य के लोगों के नाम उजागर नहीं करने चाहिए थे ।

बहरहाल एडिशनल एसपी ने अपने पत्र में खनन माफियाओं को चिन्हित कर दिया है । लेकिन जमीनी स्तर पर काम करने वाले पुलिस कर्मी बिना सबूत के उन्हें खनन माफिया मानने को तैयार नहीं ।
अब यह देखना दिलचस्प होगा कि आखिर इस वायरल पत्र का मतलब क्या निकलता है ।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!