कोरोना की तीसरी लहर: इलाज के लिए आने वाले 0 से 18 वर्ष तक के सभी बच्चों की होगी कोविड जांच

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

9 सरकारी समेत बच्चों के पाँच निजी अस्पतालों में हो रही है जाँच

सोनभद्र । कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर का प्रकोप काफी कम हो गया है लेकिन अभी भी कोरोना का खतरा फिलहाल खत्‍म होता नहीं दिख रहा है। वायरस के नए-नए वैरिएंट्स की वजह से अब इसकी तीसरी लहर की बात होने लगी है। तीसरी लहर में सबसे ज्यादा खतरे का अंदेशा बच्चों को जताया जा रहा है। अगर बच्चों को कोरोना होता है तो फिर उसके परिवार भी इससे अछूता नहीं रहेगा। दूसरी लहर के दौरान सभी स्थापित व्यवस्थाएं बिखर गईं। जनपद में सैकड़ों लोगों की संक्रमण के कारण जान चली गई। ऐसी स्थिति तीसरी लहर में न आए, इसके लिए स्वयं सावधानी बरतना ही एकमात्र उपाय है। हालांकि इससे निपटने के लिए जिला प्रशासन ने तैयारी शुरू कर दी है। इसी क्रम में जहाँ जिला स्तर पर बच्चों के लिए 50 बेड का पीकू वार्ड बन कर लगभग तैयार हो चुका है, वहीं तहसील स्तर पर भी तैयार हो रहे एल-1 प्लस आसप्तालों में बच्चों के लिए 10 बेड रिजर्व किये जायेंगे। इसके साथ ही 9 सरकारी अस्पतालों समेत बच्चों के 5 निजी अस्पतालों में इलाज के लिए आने वाले 0 से 18 वर्ष तक के सभी बच्चों की कोरोना की जाँच के लिए सैंपल लिए जा रहे हैं।

आंकड़ों पर गौर करें तो जहाँ महामारी की 30 मार्च तक पहली लहर में आरटी-पीसीआर जांच में 0से 18 वर्ष तक के कुल 3108 बच्चे संक्रमित मिले थे। वहीं दूसरी लहर में यह आँकड़ा बढ़कर 7233 तक पहुंच गया है। जिसके कारण विशेषज्ञ यह अनुमान लगा रहे हैं कि कोरोना की तीसरी लहर बच्चों को प्रभावित करेगी। स्वास्थ्य अधिकारियों का मत है कि आंकड़ों पर जोर देने की बजाय बच्चों को महामारी से बचाने के लिए इलाज की व्यवस्था पर जोर देना होगा। ऐसे ही बच्चों को भयावह स्थिति में जाने से बचाया जा सकता है।

इस संबंध में जिला सर्विलांस अधिकारी डॉ0 प्रेमनाथ ने कहा कि “कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए तैयारी शुरू हो चुकी है। इसी संबंध में जिले में युवाओं और बच्चों में कोविड-19 महामारी के आंकड़े जुटाने के उद्देश्य से 9 सरकारी हॉस्पिटलों और बच्चों के 5 निजी अस्पतालों में इलाज के लिए आने वाले 0 से 18 वर्ष तक के बच्चों की कोविड जाँच शुरू हो चुकी है। 26 मई से शुरू हुई जाँच में अब तक 1417 सैम्पल की कलेक्ट किये गए है, जिसमें 9 पॉजिटिव तथा 1289 नेगेटिव रिपोर्ट प्राप्त हुई है जबकि 119 बच्चों की रिपोर्ट अब तक प्राप्त नहीं हुई है।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!