कलक्ट्रेट में खुलेगा बाढ़ नियंत्रण कक्ष

आनंद कुमार चौबे (संवाददाता)

जरूरत के मुताबिक स्थापित होंगी बाढ़ चौकियाँ

बाढ़ नियंत्रण कक्ष 15 जून से 15 अक्टूबर तक स्थापित करने का जिलाधिकारी ने दिया निर्देश
सोनभद्र । सोनांचल में मानसून की आहट होने के साथ जिला प्रशासन भी मानसूनी आपदा से निपटने की तैयारियों को अंतिम चरण में ले गया है। मानसून के दौरान हुई बारिश से सोन समेत अन्य नदियों का जलस्तर बढ़ने के साथ ही हर साल कई गांवों में बाढ़ आ जाती है। इसी कारण जिला प्रशासन द्वारा कलेक्ट्रेट में बाढ़ नियंत्रण कक्ष खोलने तथा जिले में बाढ़ चौकियों को भी स्थापित करने की पहल की जा रही है। मानसून सीजन में किसी भी आपातकालीन परिस्थिति में त्वरित गति से जनता को राहत पहुंचाने व बचाव कार्य के लिए बाढ़ नियंत्रण कक्ष 24 घंटे, सातों दिन काम करेगा। बारिश के बाद बाढ़ की आशंका को देखते हुए प्रशासन ने एहतियातन ये कदम उठाया है।

बताते चलें कि जिले में मानसूनी बारिश अच्छी होने पर जनपद की नदियों सोन, बेलन, बकहर, रेणु, कनहर, मलिया, घाघर, बिजुल का जलस्तर बढ़ जाता है, जिससे इन नदियों के किनारे स्थित ज्यादातर गाँव में बाढ़ का संकट खड़ा हो जाता है। सोन नदी व बेलन नदी का जलस्तर बढने से राबर्ट्सगंज विकास खंड के सबसे अधिक गांव प्रभावित होते हैं। सोन नदी में अत्यधिक वर्षा होने तथा रिहंद व बाण सागर बांध से पानी छोड़े जाने पर का जलस्तर 171 मीटर हो जाने पर चोपन विकास खंड के कई गांव प्रभावित होते हैं। मानसून को नजदीक आता देख जिला प्रशासन बाढ़ से निपटने की तैयारी में जुट गया है।

डीएम अभिषेक सिंह ने कलेक्ट्रेट में बाढ़ नियन्त्रण कक्ष की स्थापना तथा बंधी प्रखंड द्वितीय रॉबर्ट्सगंज कार्यालय में बाढ़ नियंत्रण कक्ष 15 जून से 15 अक्टूबर तक स्थापित करने का निर्देश दिया है। एडीएम योगेंद्र बहादुर सिंह ने सभी तहसीलों के एसडीएम को बाढ़ से प्रभावित होने वाले संभावित गांवों की सूची तैयार करा कर मुहैया कराने का निर्देश दिया है।

इस संबंध में अपर जिलाधिकारी योगेंद्र बहादुर सिंह ने बताया कि “बाढ़ से निबटने की तैयारियां पूरी कर ली गई है। कलेक्ट्रेट में बाढ़ नियन्त्रण कक्ष तथा बंधी प्रखंड द्वितीय रॉबर्ट्सगंज कार्यालय में बाढ़ नियंत्रण कक्ष 15 जून से 15 अक्तूबर तक स्थापित रहेगा। जरूरत के अनुसार बाढ़ चौकियां भी स्थापित की जाएंगी।”



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!