जनप्रतिनिधियों के उदासीन रवैया से क्षेत्र का विकास प्रभावित हुआ है

अबुलकैश (डब्बल)

* बाहरी और कथित मूल निवासी प्रतिनिधियों से विकास आवृद्ध हुआ है।
* पोस्ट कार्ड भेजकर सरकार का ध्यान कराएंगे आकृष्ट।
धानापुर। डीवीएम की एक आवश्यक बैठक बुद्धवार को किशनपुरा गांव में में रामानुज यादव के आवास पर हुई। जिसमें क्षेत्र के रुके हुए विकास पर चर्चा किया गया। संयोजक गोविंद उपाध्याय ने बताया कि करोना काल में मंच की मांग के अनुसार धानापुर में तहसील और नगवा चौचकपुर घाट पर स्थाई पुल के निर्माण के संबंध में सरकार और जनप्रतिनिधियों द्वारा अब तक केवल आश्वासन दिया गया। अभी तक कोई भी सकारात्मक रूप से कार्यवाही नहीं की गई। आगामी विधान सभा चुनाव को देखते हुए समस्त राजनीतिक दल अब अपनी दफली अपनी राग अलापना शुरू कर दिए है। जो प्रतिनिधियों चुनाव के बाद हैदराबाद, फरीदाबाद और वाराणसी सहित अन्य महानगरों में नजर आते हैं वह अब किसानों और क्षेत्र के रहनुमा बन रहे हैं। बाहरी जनप्रतिनिधि एवं कथित मूल निवासी जनप्रतिनिधियों से क्षेत्र का विकास अवरुद्ध हुआ है। प्रत्याशी जाति समीकरण और किए गए कामों का ब्यौरा इकट्ठा कर चौसर का पासा फेंकने में तैयार होग गए हैं। परंतु धानापुर विकास मंच जब तक धानापुर में तहसील और नगवा चौचकपुर घाट पर पुल का शिलान्यास नहीं हो जाता, भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशियों का रास्ता भी रोकेगा और उनसे सवाल भी उठाएगा। धानापुर विकास मंच हरगांव से पोस्ट कार्ड के माध्यम से उत्तर प्रदेश सरकार के समक्ष धानापुर में तहसील और नगवा चौचकपुर घाट पर स्थाई पुल निर्माण किए जाने हेतु पत्र भेजने का काम करेगा। हम उसी प्रत्याशी को समर्थन देंगे जो विकास के कार्य में इन दोनों मूलभूत सुविधाओं पर कुछ करके सकारात्मक रूप से अपने वादे का अमल करता हुआ दिखाई देगा। बैठक की अध्यक्षता धानापुर विकास मंच के उपाध्यक्ष राम अनुज यादव और संचालन महामंत्री वीरेंद्र प्रताप सिंह ने किया। बैठक में अक्षय कुमार यदुवंशी शैलेश कुमार यादव मोहित रस्तोगी शशीकांत मौर्य शुभम विश्वकर्मा अवधेश कुमार विकास उपाध्याय रामविलास पांडे संजय दुबे गोपाल प्रजापति संजीव शर्मा और प्रभात सिंह , दीपक मौर्य, आनन्द दूबे आदि भी सम्मिलित थे।



अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!