बाल सेवा योजना के तहत अनाथ बच्चों की पूरी जिम्मेदारी उठाएगी यूपी सरकार

प्रतीकात्मक चित्र

कोरोना संकट के बीच उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों के लिए बड़ा कदम उठाया। मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के तहत जिन बच्चों ने अपने माता-पिता को खो दिया उनकी पूरी जिम्मेदारी यूपी सरकार उठाएगी। सरकार अनाथ हुए बच्चों के भरण-पोषण, शिक्षा और मेडिकल का जिम्मा लेगी। इस योजना में 18 साल तक के ऐसे बच्चे शामिल किए जाएंगे। जिनके माता-पिता दोनों की मौत कोविड काल में हो गई है। इसके अलावा इस योजना में वो बच्चें भी शामिल किए जाएंगे जिनके माता-पिता दोनों में से किसी एक की मौत 1 मार्च 2020 से पहले हो गई थी और दूसरे की मौत कोविड काल में हो गई।

कैबिनेट से मंजूरी मिलने के साथ ही उसे धरातल पर उतारने में महिला एवं बाल विकास विभाग पूरी मुस्तैदी से जुट गया है। इसके लिए चिन्हित बच्चों की लिस्टिंग समेत पात्रता की शर्तों और जिलों में योजना को अमलीजामा पहनाने वाले अधिकारियों की जिम्मेदारी भी तय कर दी गयी है।

जरूरी दस्तावेज

० बच्चे एवं अभिभावक की नवीनतम फोटो सहित पूर्ण आवेदन

० माता/पिता/दोनों जैसी भी स्थिति हो का मृत्यु प्रमाण पत्र

० कोविड-19 से मृत्यु का साक्ष्य

० आय प्रमाण पत्र (माता-पिता दोनों की मृत्यु की स्थिति में जरूरी नहीं)

० बच्चे का आयु प्रमाण पत्र

० शिक्षण संस्थान में पंजीयन का प्रमाण पत्र

० उत्तर प्रदेश का निवासी होने का घोषणा पत्र

अपने शहर के एप को डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे |  हमें फेसबुक,  ट्विटर,  और यूट्यूब पर फॉलो करें|
loading...
Back to top button
error: Content is protected !!